बिहार के RJD विधायक ने अपने क्षेत्र में कर दिया भारत के सबसे लंबे पुल का शिलान्यास
Samastipur News in Hindi

बिहार के RJD विधायक ने अपने क्षेत्र में कर दिया भारत के सबसे लंबे पुल का शिलान्यास
बिहार के समस्तीपुर में पुल का शिलान्यास करते राजद के विधायक आलोक मेहता

बिहार के समस्तीपुर में जिस पुल का शिलान्यास किया गया है उसकी लंबाई जो शिलापट्ट पर लिखी गई है उसके हिसाब से 30,220 मीटर की है. अगर हम इसे किलोमीटर मेंं परिवर्तित करके देखते हैं तो इस पुल की लंबाई 30 किलोमीटर और 220 मीटर होगी जो अपनेेे आप में कई तरह के आश्चर्य को समेटे हुए है

  • Share this:
पटना/समस्तीपुर. बिहार में राजद (RJD MLA) के एक विधायक ने भारत के सबसे लंबे पुल का शिलान्यास करने का रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया. मामला समस्तीपुर (Samastipur) से जुड़ा है जहां राजद के विधायक और बिहार के पूर्व मंत्री आलोक मेहता (RJD MLA Alok Mehta) अपने क्षेत्र में बनने वाले एक पुल का शिलान्यास करने पहुंचे थे. अब समस्तीपुुर जिले उजियारपुर विधानसभा क्षेत्र में 242.24 लाख की लागत से बनने वाली पुल की कहानी को भी जानिए.

242.24 लाख रुपए की लागत से बन रहा है पुल

दरअसल बिहार के पूर्व सहकारिता मंत्री और बिहार प्रदेश राष्ट्रीय जनता दल के प्रधान महासचिव सह उजियारपुर के विधायक आलोक कुमार मेहता द्वारा बिहार सरकार के ग्रामीण कार्य विभाग राज्य योजना के अंतर्गत उजियारपुर प्रखंड के लोहारी रमौली वार्ड संख्या एक में उच्च स्तरीय पुल निर्माण कार्य का शिलान्यास 24 मई 2020 को किया गया. अब 242.24 लाख रुपए के लागत से बनने वाले इस पुल की लंबाई को भी जान लीजिए. इस पुल की लंबाई जो शिलापट्ट पर लिखी गई है उसके हिसाब से 30,220 मीटर की है. अगर हम इसे किलोमीटर मेंं परिवर्तित करके देखते हैं तो इस पुल की लंबाई 30 किलोमीटर और 220 मीटर होगी जो अपनेेे आप में कई तरह के आश्चर्य को समेटे हुए है.



पूर्व मंत्री ने नहीं दिया शिलाापट्ट की ओर ध्यान



अगर यह पुल वाकई इतनी लंबी बनती तो यह भारत की सबसे लंबी पुल होती लेकिन सवाल उठता है कि इतने बड़े पुल का निर्माण इतने कम राशि से कैसे संभव होगा. यह सवाल इसलिए कि नेता जी ने तो शिलापट्ट से पर्दा हटाया और शिलान्यास के रस्म को पूरा कर दिया लेकिन एक बार भी उनके द्वारा इसे नहीं पढ़ा गया. अगर इस शिलापट्ट को पढ़ा जाता तो निश्चित रूप से उनके पैर के नीचे की जमीन खिसक जाता.

समर्थकों ने दी सफाई

नेताजी तो चले गए लेकिन उनके पार्टी के जो क्षेत्रीय नेता इसे हैं इसे मानवीय भूल बता रहे हैं. प्राप्त जानकारी के मुताबिक जिस जगह पर इस पुल का निर्माण किया जाना है उसकी लंबाई महज 50 मीटर से भी कम है. अब भारत में और दुनिया में सबसे बड़े पुल कौन हैं ये भी जानना जरूरी है तो भूपेन हजारिका सेतु या ढोला-सदिया सेतु भारत का सबसे लम्बा पुल है. जिसका उद्घाटन 26 मई 2017 को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा कर दिया गया था.

आसाम में है भारत का सबसे लंबा पुल

यह 9.15 किलोमीटर (5.69 मील) लम्बा सेतु लोहित नदी को पार करता है, जो ब्रह्मपुत्र नदी की एक मुख्य उपनदी है. दुनिया के सबसे बड़े पुल की बात करें तो ये चीन का किंगडाओ हाइवान सड़क पुल है जो पूर्वी चीन के शैनडांग प्रांत के किंगडाओ शहर को जियाओझू की खाड़ी पर स्थित हुआंगडाओ जोड़ता है. इस पुल की कुल लंबाई लगभग 42 किलोमीटर है.

ये भी पढ़ें- गोपालगंज ट्रिपल मर्डर केस में JDU के MLA पर कसा शिकंजा, भाई-भतीजा गिरफ्तार

ये भी पढ़ें- संगीत शिक्षकों से मुजरा और 'लॉलीपॉप लागेलु' की फरमाइश कर रहे प्रवासी श्रमिक

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading