तेजप्रताप का गुप्तेश्वर पांडेय पर 'प्रहार', कहा- वो बस नाम की वर्दी पहने हुए थे

बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप यादव ने पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांंडेय के बहाने इशारों-इशारों में राज्य सरकार पर निशाना साधा है
बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप यादव ने पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांंडेय के बहाने इशारों-इशारों में राज्य सरकार पर निशाना साधा है

आरजेडी नेता तेजप्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) ने कहा कि गुप्तेश्वर पांडेय (Gupteshwar Pandey) तो सिर्फ नाम के पुलिस का वर्दी पहने हुए थे. वो शुरू से ही पॉलिटिशियन का काम कर रहे थे. अब वो जिस किसी दल से चुनाव लड़ें महागठबंधन को इससे कोई फर्क नहीं पड़ने वाला है

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 23, 2020, 9:12 PM IST
  • Share this:
समस्तीपुर. लालू यादव (Lalu Yadav) के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) ने बिहार के पूर्व पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) गुप्तेश्वर पांडेय (Gupteshwar Pandey) पर तीखा हमला बोला है. बुधवार को समस्तीपुर (Samastipur) के रोसड़ा में तेज प्रताप ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि गुप्तेश्वर पांडेय तो सिर्फ नाम के पुलिस का वर्दी पहने हुए थे. वो शुरू से ही पॉलिटिशियन का काम कर रहे थे. अब वो जिस किसी दल से चुनाव लड़ें महागठबंधन को इससे कोई फर्क नहीं पड़ने वाला है.

अपने दो दिवसीय दौरे पर हसनपुर विधानसभा क्षेत्र पहुंचे पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप ने यहां रोड शो से पहले एक प्रेस वार्ता को संबोधित किया. तेजप्रताप ने कहा कि यहां के युवाओं की मांग पर उन्होंने हसनपुर से चुनाव लड़ने का मन बनाया है. हसनपुर के वर्तमान जनता दल युनाइटेड (जेडीयू) के विधायक राज कुमार राय पर आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा कि इलाके में भ्रमण के दौरान पता चलता है कि यहां कुछ काम हुआ ही नहीं है. उन्होंने कहा कि जिस तरह उन्होंने महुआ में मेडिकल कॉलेज खुलवाया है इसी तरह यहां भी डिग्री कॉलेज खोलेंगे.

केंद्र सरकार के रवैये से देश का किसान कर रहा खुदकुशी



तेजप्रताप ने किसानों की हालत पर चर्चा करते हुए कहा कि केंद्र सरकार के रवैये से अन्नदाता फांसी पर लटकने को मजबूर है. बिहार में सभी उद्योग-धंधे बंद हो गए हैं. उन्होंने कहा कि उनकी (आरजेडी) सरकार बनी तो बिहार में पूरा विकास होगा, बंद पड़े मिलों को फिर से चालू कराया जाएगा. जनता ने इस बार बिहार सरकार का रिपोर्ट कार्ड तैयार कर लिया है, उन्हें चुनाव में अच्छी तरह सबक सिखाने जा रही है.





बता दें कि गुप्तेश्वर पांडेय ने मंगलवार की देर शाम वीआरएस लेते हुए डीजीपी पद से इस्तीफा दे दिया था. हालांकि उनकी रिटायरमेंट में अभी चंद महीने शेष थे. समझा जा रहा है कि वर्ष 1987 बैच के आईपीएस अफसर गुप्तेश्वर पांडेय ने ऐसा विधानसभा चुनाव लड़ने के मकसद से किया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज