होम /न्यूज /बिहार /छपरा: जहरीली शराब से मरने वालों की संख्या 11 हुई, 11 लोगों ने गंवाई आंखों की रोशनी

छपरा: जहरीली शराब से मरने वालों की संख्या 11 हुई, 11 लोगों ने गंवाई आंखों की रोशनी

छपरा में जहरीली शराब के शिकार लोगों को प्रशासन अस्पताल पहुंचा रहा है.

छपरा में जहरीली शराब के शिकार लोगों को प्रशासन अस्पताल पहुंचा रहा है.

Liquor Ban in Bihar: सारण जिले के मकेर और भेल्दी में जहरीली शराब पीने से 11 लोगों की मौत हो गई है. वहीं, 11 लोगों की आं ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

जहरीली शराब का सेवन करने से फुलवरिया के चंदन महतो और कमल महतो की मौत हो गई.
जबकि एक अन्य व्यक्ति की मौत पीएमसीएच में हुई है. दर्जन भर लोगों को कम दिखाई पड़ रहा.

छपरा. सारण जिले में जहरीली शराब कांड में शुक्रवार को 4 और लोगों की मौत हो गई. इस तरह कुल मृतकों की संख्या 11 पहुंच गई है. बताया जा रहा है कि शुक्रवार को मरने वाले दोनों पीएमसीएच में भर्ती थे. इलाज के दौरान दोनों की मौत हो गई. बता दें कि जिले के मकेर और भेल्दी की इस घटना में गुरुवार की देर रात तक 7 लोगों की मौत हुई थी जो अब बढ़कर 11 हो गई. वहीं, 11 लोगों की आंखों की रोशनी चली गई है.

बता दें कि जहरीली शराब से प्रभावित तकरीबन 30 लोग पीएमसीएच में भर्ती कराए गए थे जिनमें 8 लोगों की मौत हो चुकी है. यहां इलाज के दौरान 8 लोगों की मौत हो गई है. जहरीली शराब से प्रभावित राजनाथ महतो, धनिलाल महतो और सकलदीप महतो की मौत पीएमसीएच में इलाज के दौरान हुई है. ये तीनों नोनिया टोली के रहनेवाले थे.

यह मामला मकेर थाना क्षेत्र का बताया जा रहा है. मकेर के भाथा फुलवरिया के रहनेवाले पारस महतो के बेटा चंदन महतो (35) और काशी महतो के बेटे कमल महतो (70) की मौत गांव में ही हो गई थी, जबकि एक अन्य व्यक्ति की मौत पीएमसीएच में इलाज के दौरान हुई थी. देर रात आई जानकारी के मुताबिक पीएमसीएच में भर्ती 4 और लोगों की मौत हो गई है.

जहरीली शराब कांड के बाद मकेर के भाथा नोनिया टोली में दहशत का आलम है. फिलहाल 30 लोग पीएमसीएच में भर्ती थे जिनमें 8 लोगों की मौत हो गई. पूरे गांव की ब्रेथ एनालाइजर से टेस्ट की जा रही है. छपरा जहरीली शराब कांड को लेकर पीएमसीएच अलर्ट पर है. अस्पताल प्रशासन ने डॉक्टरों को अलर्ट किया. ये जानकारियां पीएमसीएच के अधीक्षक डॉ आईएस ठाकुर ने दी.

इस जहरीली शराब से आंखों की रोशनी गवांने वालों में सकलदीप महतो, भरोसा महतो, उपेन्द्र महतो, धनी महतो, चंदेश्वर महतो, देवा नंद महतो, प्रेम महतो, सुपन महतो, अखिलेश महतो, लखन महतो, भोली महतो आदि शामिल हैं. सदर अस्पताल में भर्ती इन मरीजों का हाल जानने डीएम और एसपी खुद अस्पताल पहुंचे.

एम राजेश मीणा ने बताया कि घटना की सूचना मिलते हैं प्रशासन ने अपने स्वास्थ्य विभाग की टीम को गांव भेज दिया है और बीमार लोगों को सरकारी खर्च पर अस्पताल लाया जा रहा है. उन्होंने कहा कि बीमार लोगों के इलाज के लिए स्वास्थ्य विभाग अलर्ट है. शराब तस्करों की गिरफ्तारी के लिए इलाके में छापेमारी भी चल रही है.

Tags: Bihar News, Illegal liquor, Liquor Ban

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें