Bihar Assembly Election 2020: हॉट सीट बनियापुर से क्या विधायक केदारनाथ चौथी बार पहुंचे पायेंगे विधानसभा ?

Bihar Assembly Election 2020: सारण जिले में 'प्रभु' के प्रभाव वाली हॉट सीट बनियापुर में राजद का दबदबा बना हुआ है. लेकिन प्रभु के जेल में होने के कारण इस बार उनके विधायक भाई केदारनाथ सिंह के खेमे में थोड़ी मायूसी है.

  • News18 Bihar
  • Last Updated: September 25, 2020, 8:44 PM IST
  • Share this:
सारण. जिले में राजद (RJD) के कब्जे वाली बनियापुर सीट (Baniyapur Assembly constituency) पहले से ही हॉट सीट मानी जाती रही है. कहा जाता है कि यह सीट 'प्रभु' के प्रभाव वाली है. यहां प्रभु का मतलब इलाके के दबंग पूर्व सांसद प्रभुनाथ सिंह (Prabhunath Singh) से है. उनके परिवार का इस सीट पर लंबे समय से कब्जा रहा है. पिछली बार प्रभुनाथ सिंह के भाई केदारनाथ सिंह (Kedarnath Singh) यहां से विधायक बने थे. उन्होंने जदयू के विरेंद्र ओझा को हराया था. दबंग प्रभुनाथ सिंह के भाई होने के बावजूद केदारनाथ सिंह का सहज स्वभाव उनको तीन बार विधायक बनाने में मददगार साबित हो रहा है. अब चौथी बार विधानसभा पहुंचने के लिए केदारनाथ सिंह क्षेत्र में लगातार जनसंपर्क कर रहे हैं.

हालांकि इस बार प्रभुनाथ सिंह एक अपराधिक मामले में सजायाफ्ता होकर जेल में है. उसके कारण केदारनाथ सिंह के खेमे में थोड़ी मायूसी है. राजद खेमे में सीटिंग विधायक केदारनाथ सिंह ही एकमात्र यहां दावेदार हैं. जबकि बीजेपी में यहां टिकट के लिए कई उम्मीदवार संघर्ष कर रहे हैं. परिसीमन में बदलाव के बाद बनियापुर विधानसभा में मशरक को शामिल किया गया था. उसके बाद केदारनाथ सिंह वर्ष 2010 में राजद के टिकट पर चुनाव जीते थे. उसके बाद वर्ष 2015 में भी जनता ने इनको विधायक चुना था.

Bihar Assembly Election 2020: जातीय समीकरणों में उलझे छपरा में BJP के लिये सीट बरकरार रखना बड़ी चुनौती



अन्य पार्टियों में ये हैं दावेदार
बात बीजेपी की करें वर्तमान चुनाव में तारकेश्वर सिंह प्रबल दावेदार की भूमिका में हैं. वे पूर्व में विधायक रह चुके हैं. वर्ष 2010 की चुनाव में वे दूसरे नंबर पर थे. वे कम वोटों के अंतराल से पराजित हुए थे. वर्षों से बीजेपी के साथ हैं. इनका जनाधार भी बताया जा रहा है. ऐसे में एक बार फिर बीजेपी इन पर अपना दांव लगा सकती है. जदयू में भी यहां से कई प्रबल दावेदार हैं. वीरेंद्र कुमार ओझा वर्ष 2015 में महज 3900 वोट से पराजित हुए थे. वे लगातार सक्रिय बने हुये हैं.



भूमिहार वोट यहां के राजनीति का रास्ता किसी भी वक्त मोड़ने में सक्षम हैं
बनियापुर में 3,12,932 वोटर हैं. इनमें से 1,67,397 पुरुष और1,45,534 महिला वोटर हैं. थर्ड जेंडर के नाम पर यहां 1 मतदाता है. जातीय समीकरणों को देखें तो बनियापुर में शुरू से ही सवर्णों का बोलबाला रहा है. यहां यदि राजपूत तथा यादव एकजुट होते हैं तो इससे बने समीकरण लाभ अब तक सीधे राजद को मिलता रहा है. हालांकि भूमिहार वोट यहां के राजनीति का रास्ता किसी भी वक्त मोड़ने में सक्षम है.

हजारों एकड़ खेती करने लायक भूमि बेकार पड़ी है
उधोग-धंधा विहीन बनियापुर विधानसभा क्षेत्र में किसान और किसानी पहले भी चुनावी मुद्दे बनते रहे हैं और इस बार भी बनेंगे. बहियारा चंवर की जल निकासी की समस्या कल भी थी और आज भी है. इसके बिना हजारों एकड़ खेती करने लायक भूमि बेकार पड़ी है. सरकारी ट्यूबवेल लगभग बंद हैं. आधे से अधिक किसानों को सरकारी योजनाओं के लाभ नहीं मिल रहे हैं.

Bihar Assembly Election 2020: महाराजगंज में क्या JDU अपनी पकड़ बरकरार रख पायेगी, BJP दे रही है चुनौती

पिछले सात चुनावों ने यह सीट इन पार्टियों के खाते में गई हैं
2015 - केदार नाथ सिंह - राजद
2010 - केदार नाथ सिंह - राजद
2005 - (अक्टूबर) मनोरंजन सिंह - जदयू
2005 - (फरवरी) मनोरंजन सिंह - लोजपा
2000 - मनोरंजन सिंह - निर्दलीय
1995 - राम बहादुर राय - जनता दल
1990 - राम बहादुर राय - जेएनपी (जेपी)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज