कंगना रनौत की बढ़ सकती है मुश्किल, एक ट्वीट को लेकर बिहार में शिकायत, कल सुनवाई

कल मामले की सुनवाई होगी. (PTI)
कल मामले की सुनवाई होगी. (PTI)

रतनपुरा निवासी राकेश कुमार उर्फ राकेश यादव ने अभिनेत्री कंगना रनौत (Kangana Ranaut) के खिलाफ परिवाद दाखिल कराया है.

  • News18 Bihar
  • Last Updated: September 29, 2020, 7:48 PM IST
  • Share this:
छपरा. बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत (Kangana Ranaut) इन दिनों अपने बयानों को लेकर सुर्खियों में बनी हुई हैं. उनकी ट्वीट (Tweet) भी टॉक ऑफ टाउन होते हैं. लेकिन कंगना का एक ऐसा ही बेकाक ट्वीट उनकी मुश्किलें बढ़ा सकता है. दरअसल, मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी जितेश कुमार के न्यायालय में भगवान बाजार थाना के रतनपुरा मोहल्ला निवासी और राष्ट्रीय यादव सेना के प्रदेश अध्यक्ष राकेश कुमार उर्फ राकेश यादव ने अभिनेत्री कंगना रनौत पर आईटी एक्ट सहित अन्य के तहत परिवाद दाखिल कराया है. कंगना रनौत पर धार्मिक भावना को ठोस पहुंचाने का आरोप है.

राकेश कुमार ने अपने परिवाद पत्र में दर्शाया है कि धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने वाला एक आपत्तिजनक पोस्ट कंगना रनौत द्वारा अपने ट्विटर अकाउंट पर डाला गया है. 'जैसे श्री कृष्ण की नारायणी सेना थी उसी प्रकार पप्पू भी एक स्वयंभू सेना है जो सिर्फ अफवाहों के दम पर लड़ना चाहती है', इस ट्वीट से हिंदू समाज विशेष पर यादव समाज की धार्मिक भावनाओं को भावनाएं आहत हुई हैं. पप्पू की तुलना कांग्रेस पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं सांसद राहुल गांधी से किया गया है. अब कोर्ट में इस मामले पर कल सुनवाई की जाएगी.

ये भी पढ़ें: मुंबई और बेंगलुरु में बम ब्लास्ट की धमकी देने वाला आरोपी कोटा में गिरफ्तार



कंगना ने किया ये ट्वीट
कंगना रनौत ने अपने सोशल मीडिया एकाउंट के जरिए फिल्ममेकर अनुराग कश्यप पर जमकर निशाना साधा है. उन लगे रेप के आरोपों और पायल घोष ( की एफआईआर के बाद भी कार्रवाई ना होने पर भी सवाल उठाया है. कंगना रनौत ने अपने पोस्ट में कई और गंभीर बातें उठाई हैं. दरअसल, कंगना अपने पोस्ट में यूट्यूबर साहिल चौधरी की जेल भेजे जाने के मुद्दे पर ट्वीट किया था. बताया जाता है कि साहिल ने सुशांत के निधन के बाद अपने वीडियोज में बॉलीवुड सितारों के साथ-साथ महाराष्ट्र सरकार पर भी सवाल उठाए थे. वहीं कंगना ने इस मुद्दे पर ट्वीट करते हुए लिखा- 'किसी ने साहिल पर एफआईआर कर दी, महाराष्ट्र सरकार के काम पर सवाल उठाने के लिए, जो कि उसका लोकतांत्रिक अधिकार है. उसे तुरंत जेल भेज दिया गया. लेकिन पायल घोष ने अनुराग कश्यप पर काफी दिनों पहले ही रेप के आरोप में एफआईआर दर्ज करवाई थी और वो खुला ही घूम रहा है. क्या है ये सब?'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज