Home /News /bihar /

dalit man died on thursday strongman stop way for last procession for hours know what happen next nodmk3

मौत के बाद घंटों तक घर में पड़ी रही दलित की लाश, दबंगों ने शव यात्रा के लिए नहीं दिया रास्‍ता

छपरा में दबंगों ने एक दलित का शव घंटों तक नहीं निकलने दिया. (न्‍यूज 18 हिन्‍दी)

छपरा में दबंगों ने एक दलित का शव घंटों तक नहीं निकलने दिया. (न्‍यूज 18 हिन्‍दी)

Saran News: छपरा में SC-ST की सख्‍त धाराओं के तहत केस दर्ज होने से नाराज दबंगों ने रास्‍ता रोक दिया, जिसकी वजह से दलित शख्‍स की शव यात्रा घंटों क नहीं निकल सकी. दलित व्‍यक्ति का शव घंटों तक घर में ही पड़ा रहा. स्‍थानीय प्रशासन के हस्‍तक्षेप के बाद आखिरकार रास्‍ते को खोला गया और दलित शख्‍स के शव को श्‍मशान घाट ले जाया जा सका.

अधिक पढ़ें ...

छपरा (सारण). बिहार में एक चौंकाने वाली घटना सामने आई है. दबंगों ने एक दलित के शव को घंटों तक नहीं निकलने दिया. आरोप है कि दबंगों ने प्रतिशोध में रास्‍ता ही रोक दिया था, जिसके कारण दलित की शव यात्रा घंटों तक नहीं निकल सकी. पीड़ित पक्ष ने इस बाबत पुलिस में शिकायत दी थी, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई. इसके बाद दलितों ने मोबाइल फोन से कॉल कर आलाधिकारियों को इसकी सूचना दी. इसके बाद स्‍थानीय प्रशासन हरकत में आया और मौके पर पहुंच कर हालात को सामान्‍य किया. हालांकि, तनाव को देखते हुए बड़ी तादाद में सुरक्षाबलों की तैनाती कर दी गई है, ताकि किसी तरह की कोई अप्रिय घटना न घटे.

जानकारी के अनुसार, दंबगई का यह मामला छपरा के गड़खा का है. यहां के महादलित बस्ती में एक शख्स की मौत के बाद उनके शव को कई घंटों तक गांव में ही रखना पड़ा, क्योंकि दबंगों ने शव यात्रा का रास्ता रोक दिया था. बाद में जिला प्रशासन के हस्तक्षेप के बाद रास्ता खोला गया. प्रशासन के हस्‍तक्षेप के बाद शव यात्रा निकली और शख्स का अंतिम संस्कार किया जा सका. मामला दोनों पक्षों के बीच विवाद का है, जिसे लेकर थाने में केस दर्ज कराया गया है. महादलितों द्वारा केस दर्ज कराए जाने से नाराज दबंगों ने उनका रास्ता रोक दिया और लाश घंटों तक गांव में पड़ी रही. दरअसल, दलितों ने अनुसूचित जाति-अनुसूचित जनजाति (SC-ST) अत्‍याचार निवारण कानून की धाराओं के तहत मामला दर्ज कराया है.

ऑस्‍ट्रेलिया की दुल्‍हनिया ने बिहारी दूल्‍हे संग लिए सात फेरे, पढ़ें दोस्‍ती और प्‍यार से शादी तक की कहानी

Mhadalit Death

सारण जिले में दलित शख्‍स की मौत के बाद तनाव की स्थिति उत्‍पन्‍न हो गई. इस बाबत पुलिस में लिखित आवेदन भी दिया गया था. (न्‍यूज 18 हिन्‍दी)

बड़ी तादाद में पुलिस की तैनाती
यह मामला गरखा के नारायणपुर महादलित बस्ती का है. इस घटना के बाद गांव में तनाव है, जिसके बाद पुलिस गांव में कैंप कर रही है. बताया जा रहा है कि नारायणपुर महादलित बस्ती के किशुन राम की मौत गुरुवार को शाम 4 बजे हो गई, जिसकी सूचना दबंगों को मिलने पर शव यात्रा न निकलने देने के लिए रास्‍ते को ही बंद कर दिया. इस पर मृतक के पुत्र अर्जुन राम ने गरखा थाना में आवेदन दिया है. शिकायत के करीब 2 घंटे बाद गांव में जाकर अपना कोरम पूरा कर दिया, लेकिन बस्ती से शव यात्रा निकालने के लिए कोई प्रयास नहीं किया. इस पर शुक्रवार को गांव के लोगों ने जिलाधिकारी एवं सदर एसडीएम को मोबाइल पर फोन कर घटना की सूचना दी थी. इससे प्रशासन हड़कत में आई और गड़खा थाना पुलिस एवं अंचलाधिकारी ने गांव में जाकर शव यात्रा निकलाने के लिए प्रयास किया. शुक्रवार को करीब 11 बजे दिन में गांव से शव को निकालकर श्मशान घाट ले जाया गया.

7 महीने से रास्‍तों का विवाद
नारायणपुर महादलित बस्ती का करीब 7 महीने से रास्ता को लेकर विवाद चल रहा है. गांव के आस-पास के बस्ती के लोगों ने दलितों का रास्ता रोक दिया है. इसको लेकर 23 सितम्बर 2021 को मारपीट हुई, जिसमें करीब आधा दर्जन लोग घायल हुए थे. इसका गड़खा थाना में अनुसूचित जाति अत्याचार निवारण अधिनियम के तहत केस संख्या 656 दिनांक 23 सितंबर 2021 दर्ज है. इस मामले में पुलिस ने 2 लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया तथा 9 आरोपी व्यवहार न्यायालय में समर्पण कर दिया. जेल से छुटने के बाद सभी आरोपी आक्रोशित होकर महादलित बस्ती के चारों तरफ का रास्ता पूरी तरह से रोक दिया.

Tags: Bihar News, Saran News

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर