बिहार: पत्रकारों के सवाल पर भड़के गुप्तेश्वर पांडेय, बोले- DGP की भी हो सकती है हत्या

इस मामले में छपरा जिला परिषद की अध्यक्ष मीना अरुण समेत सात लोगों के खिलाफ मढौरा थाना में प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है. इन सभी पर दोनों पुलिसवालों की हत्या की साजिश में शामिल होने का आरोप लगाया गया है.

News18 Bihar
Updated: August 21, 2019, 12:23 PM IST
बिहार: पत्रकारों के सवाल पर भड़के गुप्तेश्वर पांडेय, बोले- DGP की भी हो सकती है हत्या
डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय छपरा में शहीद पुलिसवालों को श्रद्धांजलि देने पहुंचे थे.
News18 Bihar
Updated: August 21, 2019, 12:23 PM IST
बिहार के छपरा (मढौरा) (Chhapra) में दारोगा और कान्स्टेबल की हत्या (SI Murder in BIhar) से पुलिस महकमा पूरी तरह से बौखलाया हुआ है. दो जांबाज जवानों की जान जाने के बाद जब पुलिस (Police) विभाग के मुखिया यानि डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय (DGP Gupteshwar Pandey) उनको श्रद्धांजलि देने गए तो पत्रकारों के सवाल पर भड़क गए. उन्‍होंने यहां तक कह डाला कि अपराधी किसी की भी हत्या (Murder) कर सकते हैं, चाहे वह डीजीपी ही क्यों ना हों. मीडिया (Media) के सवालों से कन्नी काटते हुए डीजीपी ने कहा कि पुराने दिन को याद कर लीजिए कि बिहार में किस तरह के नरसंहार होते थे. इससे पहले उन्होंने शहीद जवानों (Martyr) के परिजन की उस मांग को खारिज कर दिया जिसमें सीबीआई (CBI) जांच की बात कही गई थी.

अपराधियों ने की कायराना हरकत

पुलिसकर्मियों की शहादत को डीजीपी ने अपराधियों की कायराना हरकत बताया. गुप्‍तेश्‍वर पांडेय ने कहा कि इस मामले में हर एंगल से जांच होगी और दोषियों को किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा. डीजीपी से जब इस मामले की सीबीआई (CBI) जांच की सिफारिश करने को लेकर सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि बिहार पुलिस इस मामले की जांच करने में खुद सक्षम है.

सात के खिलाफ केस

बिहार के छपरा में हुए इस कांड में छपरा जिला परिषद की अध्यक्ष मीना अरुण समेत सात लोगों के खिलाफ मढौरा थाना में प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है. इन सभी पर दोनों पुलिसवालों की हत्या की साजिश में शामिल होने का आरोप है. इस हाई प्रोफाइल मामले में पुलिस की टीम लगातार छापेमारी कर रही है.

मंगलवार को हुई थी मुठभेड़

मालूम हो कि मंगलवार की देर शाम अपराधियों से मुठभेड़ के दौरान बिहार पुलिस का एक दारोगा और कांस्टेबल शहीद हो गए थे. शहीद दारोगा मिथिलेश और कांस्टेबल फारूक एसआईटी का हिस्सा थे और पुलिस को मिले इनपुट के बाद रेड के लिए गए थे. पुलिस टीम पर अपराधियों ने ताबड़तोड़ फायरिंग की थी, जिसमें दो की मौके पर ही मौत हो गई थी जबकि एक कांस्टेबल बुरी तरह से जख्मी हो गया था.
Loading...

इनपुट- संतोष गुप्ता

ये भी पढ़ें- बिहार: CBI जांच की मांग ठुकराने पर DGP से भिड़े शहीद सब-इंस्पेक्टर के परिजन

ये भी पढ़ें- बिहार में SI और कांस्टेबल की हत्या, एके-47 लूट ले गए अपराधी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सारण से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 21, 2019, 11:59 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...