बिहार में स्वास्थ्य कर्मी की संदेहास्पद मौत, 12 दिन पहले ही लिया था कोरोना का टीका

बिहार के छपरा में कोरोना का टीका लेने के कुछ दिन बाद ही एक स्वास्थ्य कर्मी की मौत हो गई (मृतक का टीका लेते फाइल फोटो)

बिहार के छपरा में कोरोना का टीका लेने के कुछ दिन बाद ही एक स्वास्थ्य कर्मी की मौत हो गई (मृतक का टीका लेते फाइल फोटो)

Corona Vaccination: बिहार में अभी भी पहले फेज में कोरोना के वैक्सीनेसन का काम चल रहा है. छपरा में हुई इस घटना के बाद विभाग जांच में जुटा है. घटना की सूचना मिलने के बाद सिविल सर्जन माधवेश्वर झा स्वयं दिघवारा पहुंचे और मामले की जांच की

  • Share this:

छपरा. बिहार के सारण जिला स्थित दरियापुर के स्वास्थ्य कर्मी (Health Staff) की संदेहास्पद मौत हो गई. मृतक का नाम जयंत कुमार है जो दरियापुर में ही स्वास्थ विभाग में लेखपाल के रूप में कार्यरत था. खास बात यह है कि जयंत ने बीते 18 तारीख यानी 18 जनवरी को ही कोविड-19 का वैक्सीन (Corona Vaccine) लिया था. वैक्सीन लेने के बाद सब कुछ ठीक-ठाक चल रहा था लेकिन 1 फरवरी को अचानक उसकी तबीयत बिगड़ गई और उसे अस्पताल में भर्ती करना पड़ा जहां से उसे पटना रेफर किया गया. पटना के एक निजी अस्पताल में मौत के बाद परिजन मृतक के शव को छपरा के दिघवारा लाए जहां उसका अंतिम संस्कार किया गया.

परिजनों ने आशंका व्यक्त की है कि कोविड-19 का टीका लेने के कारण ही उसकी मौत हुई है. हालांकि इस आरोप को स्वास्थ्य विभाग मानने को तैयार नहीं है. घटना की सूचना मिलने के बाद सिविल सर्जन माधवेश्वर झा स्वयं दिघवारा पहुंचे और मामले की जांच की. उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विभाग और डब्ल्यूएचओ की टीम ने पूरे मामले का ब्यौरा लिया है और इस मामले की जांच की जाएगी. हालांकि टीका से मौत की बात कहना फिलहाल सही नहीं है क्योंकि मौत के अन्य कारण भी हो सकते हैं.

Youtube Video

टीकाकरण के 12 दिन बाद हुई इस मौत को लेकर परिजन सदमे में है. गौरतलब है कि कोरोना टीकाकरण का काम शुरू हो चुका है जिसे लेकर लोगों में काफी उत्साह है लेकिन इस घटना के बाद स्वास्थ्य विभाग मामले की जांच में जरूर जुट गया है. फिलहाल स्वास्थ्य विभाग यह मानने को तैयार नहींं है कि कोरोना वैक्सीन से यह मौत हुई है. बिहार में अभी भी पहले फेज के वैक्सीनेसन के तहत कई लोगों को कोरोना के टीके लगाए जा रहे हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज