बिहार: न्यूज 18 की खबर का असर: थानाध्यक्ष ने दिव्यांग दुकानदार को मारी थी 'किक', लाइन हाजिर

छपरा में दिव्यांग युवक को किक मारने वाले पुलिसकर्मी पर एक्शन.

Saran News: दिव्यांग दुकानदार के साथ पुलिस के दुर्व्यवहार और प्रशासन के लोगो द्वारा की गई इस अमानवीय हरकत की घोर निंदा हो रही थी. लोग इस घटना का वीडियो देख कर दिव्यांग से दुर्व्यहार के दोषियों पर उचित करवाई की मांग कर रहे थे.

  • Share this:
छपरा. एक बार फिर News18 की खबर का असर हुआ है. छपरा में दिव्यांग दुकानदार की पिटाई मामले में पुलिस महकमे ने एक्शन लेते हुए आरोपी दिघवारा थानाध्यक्ष दिनेश कुमार दास को लाइन हाजिर कर दिया गया है. मामला सीतलपुर बाजार का है जहां दुकान बंद करवाने के विवाद में थानाध्यक्ष का अमानवीय चेहरा सामने आया था और इसी दौरान उसने दिव्यांग को फुटबॉल की तरह किक मार दिया था. इस मामले का वीडियो वायरल हो गया था और न्यूज 18 ने भी इस खबर को प्रमुखता से दिखाया था.

दरअसल गुरुवार को छपरा के दिघवारा में पलॉकडाउन के दौरान खुली हुई दुकान को जब पुलिस अधिकारी दल बल के साथ बंद कराने पहुंचे तब एक जगह पर कुछ दुकानें खुली मिलीं. दुकानों को बंद कराने के दौरान  दुकानदार और पुलिसकर्मियों के बीच किसी बात पर बहस हो गई. इसके बाद पुलिसवालों ने एक दिव्यांग दुकानदार को घसीटते हुए पहले जमकर पीटा और फिर थाना प्रभारी द्वारा जूतों से भी मारा गया. यह वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हो गया जिसे देखकर स्थानीय लोगों में काफी रोष था और दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग कर रहे थे.

घटना दिघवारा थाना क्षेत्र के सीतलपुर बाजार  स्थित सीतलपुर स्टेट बैंक परिसर के पास स्थित दुकान  की थी. यहां लॉक डाउन के अवसर पर खुली दुकानों को बंद करवाने पहुँचे दिघवारा अंचल अधिकारी एवं दिघवारा थनाध्यक्ष दिनेस कुमार दास आपे से बाहर हो गए. प्रशासन के करवाई का विरोध जताने  पर उक्त दिव्यांग दुकानदार को जहां पुलिस ने घसीटा वहीं थानाध्यक्ष ने पैर से फुटबॉल की तरह किक मारते दिखाई दिए.

वहीं इस घटना के बाद प्रशासन के खिलाफ ग्रामीणों में आक्रोश था. दिव्यांग दुकानदार के साथ पुलिस के दुर्व्यवहार और प्रशासन के लोगो द्वारा की गई इस अमानवीय हरकत की घोर निंदा हो रही थी. लोग इस घटना का वीडियो देख कर दिव्यांग से दुर्व्यहार के दोषियों पर उचित करवाई की मांग कर रहे थे. न्यूज 18 ने भी इस खबर को प्रमुखता से दिखाया था जिसके बाद पुलिसवाले पर गाज गिरी है.