Home /News /bihar /

आपत्तिजनक बयान मामला: जीतन राम मांझी पर छपरा कोर्ट में 2 परिवाद दाखिल, इस दिन होगी सुनवाई

आपत्तिजनक बयान मामला: जीतन राम मांझी पर छपरा कोर्ट में 2 परिवाद दाखिल, इस दिन होगी सुनवाई

पूर्व मुख्यमंत्री और हम के राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतन राम मांझी ने पिछले दिनों पटना में एक कार्यक्रम में मंच से भगवान राम और ब्राह्मणों के लिए अपमानजनक शब्दावली का प्रयोग किया था (फाइल फोटो)

पूर्व मुख्यमंत्री और हम के राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतन राम मांझी ने पिछले दिनों पटना में एक कार्यक्रम में मंच से भगवान राम और ब्राह्मणों के लिए अपमानजनक शब्दावली का प्रयोग किया था (फाइल फोटो)

Bihar News: सारण जिले के प्रभारी मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी रणधीर कुमार के न्यायालय में जीतन राम मांझी के खिलाफ थाना गोरियाकोठी के ग्राम गोरिया कोठी जिला सीवान, वर्तमान पता शिव मंदिर व्यवहार न्यायालय के निवासी कृष्णा दुबे ने परिवाद पत्र संख्या 3549/21 अंदर दफा 295, 295 क, 500, 504 के अंतर्गत दाखिल किया है

अधिक पढ़ें ...

छपरा. पूर्व मुख्यमंत्री और हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (हम) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतन राम मांझी (Jitan Ram Manjhi) के ब्राह्मणों समाज पर दिए आपत्तिजनक बयान (Objectionable Comment) का मामला गर्माता जा रहा है. इसे लेकर बिहार (Bihar) में कई जगहों पर विरोध-प्रदर्शन हो रहा है. इस क्रम में अब छपरा कोर्ट (Chhapra Court) में दो लोगों के परिवाद दाखिल करने से जीतन राम मांझी की मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही हैं. सारण जिले के प्रभारी मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी रणधीर कुमार के न्यायालय में जीतन राम मांझी के खिलाफ थाना गोरियाकोठी के ग्राम गोरिया कोठी जिला सीवान, वर्तमान पता शिव मंदिर व्यवहार न्यायालय के निवासी कृष्णा दुबे ने परिवाद पत्र संख्या 3549/21 अंदर दफा 295, 295 क, 500, 504 के अंतर्गत दाखिल किया है.

अपने परिवाद पत्र में उन्होंने अभियुक्त जीतन राम मांझी पर सनातन धर्म के देवी-देवताओं को सार्वजनिक मंच से गाली देने और ब्राह्मण जाति को अपमानित करने व सनातन धर्म को मानने वाले और ब्राह्मण जाति के लोगों को उनके अपमानजनक बयान से काफी ठेस पहुंचा है.

वहीं, ब्राह्मण महासभा के जिला अध्यक्ष विवेकानंद तिवारी ने भी पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी पर दफा 153 बी, 323, 504 के अंतर्गत वाद दाखिल किया है. परिवाद पत्र में खुले आम जनता के सामने हिंदू धर्म के देवी-देवता, भगवान राम तथा सत्यनारायण स्वामी को अपमानित एवं भ्रमित करने और ठेस पहुंचाने एवं जातीय उन्माद दंगा कराना चाहता है. दाखिल दोनों परिवाद पत्र पर 22 दिसंबर को प्रभारी मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी के न्यायालय में सुनवाई होगी.

ब्राह्मणों और भगवान राम पर की थी आपत्तिजनक टिप्पणी

बता दें कि बीते शनिवार को पटना में एक कार्यक्रम में शिरकत करते हुए जीतन राम मांझी ने मंच से ब्राह्मणों और भगवान राम पर आपत्तिजनक टिप्पणी की थी. मांझी ने कहा कि लोग आज कल सत्यनारायण भगवान की पूजा करवा रहे हैं, ओर पंडित **** (गाली) आते हैं तो बोलते हैं हम खायेंगे नहीं, नगद (पैसा) दीजिये. साथ ही उन्होंने यह भी कहा था कि हम राम को नहीं मानते हैं, वो आदमी नहीं था, काल्पनिक है वो. मूर्ति पूजते हैं, देवता पूजते हैं इसलिए आस्था है वो. राम भगवान थे, यह हम मानने को तैयार नहीं हैं. जीतन राम मांझी के इस बयान का वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है.

हालांकि बयान पर बवाल बढ़ने पर पूर्व मुख्यमंत्री ने अगले दिन रविवार को ट्वीट कर इस पर सफाई दी थी. उन्होंने कहा था कि ब्राह्मणों को लेकर उनके वीडियो के उस पार्ट को ही केवल वायरल किया जा रहा है जिससे विवाद खड़ा हो सके. मांझी ने कहा कि बयान को समझने के लिए उसे पूरा सुनने की जरूरत है. उनके दिल में हर तबके के लिए सम्मान और इज्जत है. उन्होंने कहा कि उन्होंने ब्राह्मणों को नहीं, बल्कि अपने समाज के लोगों के लिए अपशब्द (गाली) यूज किया था. अगर नहीं हो तो मैं माफी मांगने को तैयार हूं.

Tags: Bihar News in hindi, Chhapra News, Jeetan Ram Manjhi, Jitan ram Manjhi

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर