Home /News /bihar /

OMG: सरकारी स्कूल के लड़कों को भी आती है माहवारी, जानें क्या है माजरा

OMG: सरकारी स्कूल के लड़कों को भी आती है माहवारी, जानें क्या है माजरा

विद्यालय जातीं बच्चियां. (सांकेतिक तस्वीर)

विद्यालय जातीं बच्चियां. (सांकेतिक तस्वीर)

Scam in Bihar : छपरा के मांझी प्रखंड के हलखोरी साह उच्च विद्यालय में लड़कियों के लिए चलाई जा रही सैनिटरी नैपकिन और पोशाक योजना का लाभ दर्जनों लड़कों ने प्राप्त किया है. मांझी प्रखंड के हलखोरी साह उच्च विद्यालय में इस मामले का खुलासा तब हुआ, जब यहां के प्रधानाध्यापक सेवानिवृत्त हो गए और दूसरे शिक्षक ने यह पदभार ग्रहण किया.

अधिक पढ़ें ...

छपरा. अपने सेवाकाल में छपरा के एक प्रधानाध्यापक कुछ ऐसी कारगुजारी कर गए हैं, जिसके सामने तमाम घोटाले और अंधेरगर्दी बौनी पड़ जाएगी और आपके मुंह से बस इतना ही निकलेगा – OMG. जी हां, इस प्रधानाध्यापक के स्कूल बही-खाते और डॉक्यूमेंट्स बताते हैं कि उनके स्कूल के लड़कों को माहवारी आती थी. इसके लिए दर्जनों लड़कों के खाते में सैनिटरी नैपकिन और पोशाक योजना का लाभ का पैसा पहुंचा.

यह मामला छपरा के एक सरकारी विद्यालय का है. इस विद्यालय में लड़कियों के लिए चलाई जा रही सैनिटरी नैपकिन और पोशाक योजना का लाभ दर्जनों लड़कों ने प्राप्त किया है. मांझी प्रखंड के हलखोरी साह उच्च विद्यालय में इस घोटाले का खुलासा तब हुआ, जब यहां के प्रधानाध्यापक सेवानिवृत्त हो गए और दूसरे शिक्षक ने यह पदभार ग्रहण किया. नए प्रधानाध्यापक से जब पुरानी योजनाओं का उपयोगिता प्रमाण पत्र मांगा गया तो लगभग एक करोड़ की योजनाओं का उपयोगिता प्रमाण पत्र नहीं होने के कारण नव पदस्थापित प्रधानाध्यापक ने इस पूरे मामले की जांच शुरू की. इस जांच के क्रम में उन्होंने बैंक स्टेटमेंट खंगाली तो पता चला कि लड़कियों के लिए चलाई जा रही योजनाओं का पैसा लड़कों के खाते में ट्रांसफर किया जाता रहा है. अब इस तरह की वित्तीय अनियमितताओं को लेकर नव पदस्थापित प्रधानाध्यापक रईस उल एहरार खान ने डीएम को पत्र लिखा है. इस पत्र के आते ही विभाग में हड़कंप मच गया है. आनन-फानन में शिक्षा विभाग ने इस मामले की जांच शुरू कर दी है.

शिक्षा विभाग के डीपीओ राजन गिरी ने कहा है कि अगर जांच में मामला सही पाया जाता है, तो दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी. दरअसल, पूरा मामला बीते 3 वित्तीय वर्ष का है. तब यहां के अशोक कुमार राय प्रधानाध्यापक थे. उनके सेवानिवृत्त होने के बाद उन्होंने अभी तक अपना प्रभार नव पदस्थापित प्राचार्य को नहीं सौंपा है. मामले की सूचना मिलते ही जिलाधिकारी के निर्देश पर जांच टीम का गठन कर दिया गया है. शिक्षा विभाग के डीपीओ ने न्यूज18 एटिन को बताया कि इस पूरे मामले की गहन जांच की जा रही है और अनियमितता पाए जाने पर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई भी की जाएगी.

Tags: Bihar News, Scam

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर