लाइव टीवी

छठ पूजा 2019: सैंड आर्ट के जरिए गंगा स्वच्छता की अपील कर रहा है यह आर्टिस्ट

News18 Bihar
Updated: November 2, 2019, 2:27 PM IST
छठ पूजा 2019: सैंड आर्ट के जरिए गंगा स्वच्छता की अपील कर रहा है यह आर्टिस्ट
छपरा में सैंड आर्टिस्ट द्वारा बनाई गई कलाकृति

बिहार के छपरा में बनी इस कलाकृति के माध्यम से सैंड आर्टिस्ट अशोक ने लोगों से अपील की है कि सिर्फ छठ के दौरान ही गंगा मां के महत्व को न समझे बल्कि आम दिनों में भी गंगा मां के स्वच्छता को लेकर जागरूक रहें

  • Share this:
छपरा. छठ पूजा (Chhath Puja) का सीधा संबंध गंगा से है. सूर्य को अर्घ्य देने की परंपरा सदियों से चली आ रही है और अस्ताचलगामी और उदीयमान सूर्य को गंगा (The Ganga) किनारे ही अर्घ्य दिया जाता है. हाल के दिनों में गंगा के दुर्दशा को लेकर पूरा विश्व चिंतित है क्योंकि गंगा धीरे-धीरे मैली हो चली है लेकिन अब गंगा को साफ और स्वच्छ करने के लिए बड़े पैमाने पर मुहिम चलाई जा रही है. बिहार के छपरा (Chapra) में छठ घाट पर भी गंगा को स्वच्छ बनाने की मुहिम का नजारा दिख रहा है. यहां सैंड आर्टिस्ट (Sand Artist) अशोक ने गंगा में पॉलिथीन और अन्य प्रदूषण करने वाले सामग्रियों को नहीं फेंकने की अपील करती एक सैंड आर्ट बनाई है.

छठ घाट किनारे बनाई है कलाकृति

अशोक ने दिखाया है कि किस तरह एक मछली गंगा किनारे आने वाले लोगों द्वारा फेंके गए प्लास्टिक की बोतल को खाकर बीमार पड़ गई है और वह धीरे-धीरे मर रही है. इसी तरह कछुआ भी तड़प रहा है जबकि गंगा मां बेबस और लाचार होकर अपने जलीय जीव जंतुओं को मरते हुए देख रही है. सैंड आर्टिस्ट अशोक ने इस आर्ट के माध्यम से लोगों से अपील की है कि सिर्फ छठ के दौरान ही गंगा मां के महत्व को न समझे बल्कि आम दिनों में भी गंगा मां के स्वच्छता को लेकर जागरूक रहें. गंगा में किसी तरह का प्रदूषण ना फैलाएं. सैंड आर्टिस्ट अशोक समय-समय पर सामाजिक कुरीतियों और बुराइयों को लेकर स्टैंडर्ड बनाते रहे हैं

सीएम के सात निश्चय को लेकर भी बना चुके हैं सैंड आर्ट

इसके पूर्व भी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के सात निश्चय को लेकर अशोक का सैंड आर्ट काफी फेमस हुआ था. इस बार अशोक ने सीढ़ी घाट और सुनार पट्टी घाट पर अपना सैंड आर्ट बनाया है जिसके जरिए पर गंगा को साफ और स्वच्छ बनाने की अपील कर रहे हैं. लोग अशोक के इस प्रयास काफी सराहना कर रहे हैं. स्थानीय राजू जायसवाल ने बताया कि अशोक के इस प्रयास के कारण गंगा किनारे प्रदूषण फैलाने वाले लोग जागरूक हो रहे हैं और अधिकांश लोग अब गंगा किनारे कचड़ा फेंकने के बजाय कचरे को नगर निगम की गाड़ियों में डाल रहे हैं जिससे गंगा अपेक्षाकृत साफ और स्वच्छ दिख रही है.

पहले से साफ है गंगा

हाल ही में कैप्टन परमवीर भी नमामि गंगे परियोजना के तहत छपरा के डोरीगंज घाट पर पहुंचे थे जहां उन्होंने दावा किया था कि गंगा और पहले से ज्यादा साफ और स्वच्छ है क्योंकि गंगा में कई जलीय जीव उछल-कूद करते दिखाई दे रहे हैं जिसमें डॉल्फिन भी शामिल है.
Loading...

ये भी पढ़ें- छठ महापर्व: आज अस्ताचलगामी सूर्य को दिया जाएगा अर्ध्य, भक्तिमय हुआ माहौल

ये भी पढ़ें- पिछले 20 सालों से छठ महापर्व कर रही हैं छपरा की ये मुस्लिम महिला, जानें वजह

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सारण से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 2, 2019, 2:23 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...