छपरा पुलिस ने सुलझाई दारोगा मिथिलेश कुमार हत्याकांड की गुत्थी, एके-47 का नहीं मिला सुराग

News18 Bihar
Updated: August 27, 2019, 1:18 PM IST
छपरा पुलिस ने सुलझाई दारोगा मिथिलेश कुमार हत्याकांड की गुत्थी, एके-47 का नहीं मिला सुराग
20 अगस्त को छपरा में पुलिस टीम पर अपराधियों ने हमला बोल दिया था (शहीद सब-इंस्पेक्टर मिथिलेश कुमार की फाइल फोटो)

सारण के मढ़ौरा में 20 अगस्त की रात एनकाउंटर के दौरान छपरा पुलिस की एसआईटी टीम के दारोगा मिथिलेश कुमार और कांस्टेबल फारूक आलम की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी

  • Share this:
बिहार के छपरा में हुए दारोगा और कांस्टेबल हत्याकांड को पुलिस ने सुलझा लेने का दावा किया है. सोमवार की दोपहर इस हत्याकांड में शामिल मुख्य अभियुक्त और जिला परिषद की अध्यक्ष मीना अरुण को गिरफ्तार करने के बाद एसपी हरकिशोर राय ने उनसे लगभग 3 घंटे तक पूछताछ की. पूछताछ के बाद एसपी मीडिया से भी मुखातिब हुए और उन्होंने इस केस को सुलझा लेने का दावा किया. एसपी ने बताया अपराध से जुड़े कई मामलों के आरोपी सुबोध सिंह के खिलाफ छपरा पुलिस की एसआईटी लगातार कार्रवाई कर रही थी. पुलिस की इसी कार्रवाई के प्रतिशोध में आकर इस हत्याकांड को अपराधियों द्वारा अंजाम दिया गया.

जेल में बंद है साजिशकर्ता

सारण के एसपी हरकिशोर राय ने बताया कि जिला परिषद की अध्यक्ष मीना अरुण जिनको सोमवार को गिरफ्तार किया गया है उनका पति अरुण सिंह फिलहाल जेल में बंद है. उनको इस केस में साजिशकर्ता के रूप में चिन्हित किया गया है. सारण में दो परिवारों के बीच पिछले कई दिनों से गैंगवार की घटना हो रही है.

घटनास्थल से पुलिस को मिली थी जिप अध्यक्ष की लाइसेंसी पिस्टल

एसपी ने बताया कि घटनास्थल से मीना की लाइसेंसी पिस्तौल मिलने के बाद ही उनका नाम इस केस में सामने आया है. वो इस हत्याकांड के बाद से लगातार फरार चल रही थीं. एसपी के मुताबिक पुलिस ने कोर्ट में सभी आरोपियों के खिलाफ कुर्की-जब्ती वारंट के लिए प्रे किया था लेकिन तभी मीना अरुण नाटकीय ढंग से जिला परिषद कार्यालय पहुंची जहां से पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया. इस केस में एक अन्य अभियुक्त अभिषेक सिंह ने ने पुलिस को चकमा देकर एक अन्य आरोपी कोर्ट में सरेंडर कर दिया.

छपरा के दारोगा हत्याकांड में गिरफ्तार की गईं जिला परिषद अध्यक्ष


एके-47 का नहीं मिला सुराग
Loading...

एसपी हर किशोर राय ने दावा किया कि पुलिस जल्द ही जिला परिषद अध्यक्ष मीना अरुण के पति अरुण सिंह को भी रिमांड पर लेकर पूछताछ करेगी जिससे कुछ अहम खुलासे हो सकते हैं. इसके साथ ही इस केस के मुख्य आरोपी सुबोध सिंह की गिरफ्तारी के लिए भी पुलिस लगातार रेड कर रही है. हत्या के बाद लूटे गए पुलिस के एके-47 और पिस्टल के बारे में पूछे जाने पर एसपी ने कहा कि लूटे गए हथियारों की बरामदगी के लिए पुलिस लगातार प्रयास कर रही है.

20 अगस्त को हुई थी हत्या

सारण के मढ़ौरा में 20 अगस्त की रात एनकाउंटर के दौरान छपरा पुलिस की एसआईटी टीम के दारोगा मिथिलेश कुमार और कांस्टेबल फारूक आलम की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी जबकि एक पुलिसकर्मी गोली लगने से बुरी तरह जख्मी हो गया था. मृतक के परिजनों ने इस केस में सीबीआई जांच की मांग की थी.

इनपुट- संतोष गुप्ता

ये भी पढ़ें- मांझी के निशाने पर फिर से तेजस्वी यादव, बताया-'अनुभवहीन'

ये भी पढ़ें- अनंत सिंह के बचाव में उतरीं पत्नी नीलम, मीडिया से करेंगी बात

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सारण से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 27, 2019, 1:11 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...