बिहार के सरकारी माध्यमिक स्कूलों के बच्चों और युवाओं तक पहुंचता है स्कूल टीवी
Motihari News in Hindi

बिहार के सरकारी माध्यमिक स्कूलों के बच्चों और युवाओं तक पहुंचता है स्कूल टीवी
स्‍कूल टीवी में बच्‍चों को नेशनल टेलीविजन पर 21 वीं सदी के कौशल की जानकारी भी मिलती है.

स्‍कूल टीवी में बच्‍चों को नेशनल टेलीविजन पर 21 वीं सदी के कौशल की जानकारी भी मिलती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 1, 2020, 3:37 PM IST
  • Share this:
वैश्विक महामारी कोरोना काल में मार्च से जब देश के स्कूल बंद हैं, तब बच्‍चों का शैक्षणिक सत्र भी प्रभावित हो रहा है. ऐसे में ई एजुकेशन और ऑनलाइन कक्षाएं चल तो रही हैं, मगर लाखों बच्‍चे ऐसे हैं, जिनके पास इंटरनेट, डाटा और मोबाइल की पहुंच आज भी नहीं है. मगर देश का सबसे पुराना, सबसे प्रिय, और व्यापक संचार चैनल दूरदर्शन का स्कूल टीवी बिहार सरकार के साथ साझेदारी खास कार्यक्रम प्रसारित कर रहा है, जो सराहनीय है.

स्कूल टीवी के 200 एपिसोड पूरे बिहार में डीडी पर प्रसारित होते हैं, जो 20 मिलियन से भी ज्‍यादा संख्‍या में बच्चों तक पहुंचते हैं. इसमें टीवी एंकर हिंदी में कोड करना सिखाती हैं. मधुमक्खी पालन करने वाले शहद बनाने का तरीका, चित्रकार कॉमिक्स बनाने का तरीके, लेखक निबंध लिखना, बॉलीवुड स्क्रिप्ट और न्यूज़ एंकर द्वारा समाचार प्रस्तुति का ज्ञान भी मिलता है.

स्‍कूल टीवी में बच्‍चों को नेशनल टेलीविजन पर 21 वीं सदी के कौशल की जानकारी भी मिलती है. IKEA फाउंडेशन ने स्कूल जाने के लिए ग्राफिक उपन्यासों की छपाई के लिए अनुदान का उपयोग और स्कूल टीवी बनाने में सक्षम बनाया, जिसमें विशेषज्ञों को यह सिखाया जाता है कि वे क्या जानते हैं. इसका आधार यह था कि जिन लोगों के पास आमतौर पर ऐसा करने का समय नहीं होता है, लॉकडाउन में उनके पास अचानक समय होता है.



स्‍कूल टीवी के कंटेट में फ़ोटोग्राफ़ी सेशन शामिल है. नितिन उपाध्याय, पवन खांडेलवाल, महिलाओं के लिए आत्‍म निर्भर स्कूटर ड्राइविंग स्कूल, निरूपा राव, वानस्पतिक चित्रकार, फुटबॉलर और पूर्व भारतीय राष्ट्रीय टीम के स्ट्राइकर ज्योति एन बरेट द्वारा बजट पर अपना व्यवसाय कैसे शुरू करें. वीआर फेरोस, हेड, एसएपी एकेडमी फॉर इंजीनियरिंग सिखाता है. यहां तक कि काउंसलर कवल्याल सेदानी के साथ 10 से अधिक मानसिक स्वास्थ्य श्रृंखला भी है. अधिकांश कंटेंट रचनाकारों ने यह सुनिश्चित किया है कि उनके एपिसोड एक डू-इट-खुद (DIY) थीम पर केंद्रित हैं.
वीडियो संपादकों ने सुनिश्चित किया कि सभी एपिसोड में एक ही भाषा के उपशीर्षक हैं, जो वीडियो कंटेंट को पढ़ने और सीखने के लिए एक आजमाया हुआ और परीक्षण किया गया तरीका है. गोइंग टू स्कूल की संस्थापक और निदेशक लिसा हेडलॉफ़ कहती हैं, "जब हम हर चीज़ को ऑनलाइन कर देते हैं, तो स्कूल टीवी उन लाखों बच्चों तक पहुंच जाता है जो अभी तक ऑनलाइन नहीं हैं. जब स्कूल बंद हुए, हमने कंटेंट बनाना शुरू किया. मास्टरक्लास के विचार के आधार पर स्कूल टीवी नामक 200 मूल, रेडी-टू-एयर एपिसोड की एक श्रृंखला जहां विशेषज्ञ बच्चों को सिखाते हैं कि वे क्या जानते हैं. अधिक जानने के लिए या अपनी परियोजनाओं को प्रस्तुत करने पर प्रतिक्रिया गहरी और कभी-कभी भारी है."

किरण कुमारी, राज्य कार्यक्रम अधिकारी, BEPC, ने स्कूल टीवी के बारे में बताया, “जब हमने दूरदर्शन के माध्यम से अपनी शिक्षा शुरू की, तो स्कूल जाने ने स्कूल टीवी के संस्करण में सामग्री प्रदान करके हमारे उत्साह को बढ़ा दिया. एपिसोड शनिवार और रविवार को प्रसारित होता है और 2 करोड़ से अधिक की दर्शक संख्या का आनंद लेते हैं और इसने पूरे भारत में बहुत अच्छी प्रतिक्रिया प्राप्त की है. जिस तरह से विशेषज्ञ छात्रों के साथ मूल्यवान कौशल-आधारित जानकारी साझा करते हैं, वह एक और सभी द्वारा सराहना की जाती है. छात्र न केवल सीखते हैं, बल्कि हर एपिसोड के अंत में एक चुनौती में भाग लेने के अवसर भी प्राप्त करते हैं. यह इन कठिन समय में समग्र शिक्षा प्रदान करने में एक लंबा रास्ता तय करता है जो निश्चित रूप से डीडी बिहार पर प्रसारित की जा रही कक्षाओं को एक बढ़त देता है.”



मधुबनी की कक्षा 10 की छात्रा रिया कुमारी कहती है, “ मैं स्कूल टीवी की शुक्रगुजार हूं. मैंने स्कूल टीवी से बहुत कुछ सीखा है. इस कार्यक्रम के माध्यम से हमें अलग-अलग विषयों को जानने का मौका विशेषज्ञों से मिला. हर एपिसोड दिलचस्प है. अब तक मैंने स्कूल टीवी से बहुत कुछ सीखा है जैसे कि योग का अभ्यास कैसे करें, संगीत, निबंध लेखन, बास्केटबॉल टिप्स. आशा है कि यह कार्यक्रम लंबे समय तक जारी रहेगा.”

स्कूल टीवी मुख्य रूप से बिहार राज्य के लिए बनाया गया था. मगर आज इसकी लोकप्रियता अन्य राज्यों को अपने राज्य दूरदर्शन प्रोग्रामिंग के लिए एपिसोड के लिए प्रेरित करती है. वहीं, केंद्र सरकार ने अनिवार्य किया है कि राज्य सरकारें फ्री-टू-एयर चैनल पर छात्रों के लिए सुविधाएं उपलब्‍ध कराये. जैसे, स्कूल टीवी दूरदर्शन राजस्थान पर भी प्रसारित हो रहा है. इस बीच, स्कूल टीवी अब मूल मराठी में महाराष्ट्र के लिए विकसित किया जा रहा है. इसे बिहार शिक्षा APP में भी एकीकृत किया जा रहा है, जिसमें छात्रों द्वारा समझ के स्तर का आकलन करने के लिए पूर्व और बाद के शिक्षण मूल्यांकन उपकरण भी होंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading