होम /न्यूज /बिहार /

बिहार में रेलवे स्टेशन कैंपस में हत्या, कैंटीन संचालक को निर्मम तरीके से मार डाला

बिहार में रेलवे स्टेशन कैंपस में हत्या, कैंटीन संचालक को निर्मम तरीके से मार डाला

सीतामढ़ी रेलवे स्टेशन पर हुई हत्या की घटना के बाद मामले की जांच के लिए पहुंची पुलिस

सीतामढ़ी रेलवे स्टेशन पर हुई हत्या की घटना के बाद मामले की जांच के लिए पहुंची पुलिस

Murder In Sitamarhi: मृतक कैंटीन संचालक का नाम अरुण कुमार सिंह है जिनकी चाकू से गोदकर बेरहमी से हत्या कर दी गई है. इस मामले को लेकर लोगों में चर्चाओं का बाजार गर्म है. घटना के बाद पुलिस मामले की पड़ताल में लगी है.

सीतामढ़ी. बिहार के सीतामढ़ी में अपराधियों ने बड़ी घटना को अंजाम दिया है. रेलवे स्टेशन की सुरक्षा व्यवस्था पर बड़ा सवाल खड़ा करते हुए और जीआरपी, आरपीएफ के साथ-साथ पूरे इलाके में सीसीटीवी कैमरा होने के बावजूद रेलवे स्टेशन स्थित कैंटीन में संचालक की अपराधियों ने हत्या कर दी. हत्या की इस घटना को चाकू गोदकर अंजाम दिया गया और घटना को अंजाम देने के बाद अपराधी बड़ी आसानी से फरार हो गए.

हत्याकांड की गुत्थी सुलझाने में पुलिस अब तक नाकाम साबित हो रही है जबकि रेलवे स्टेशन के चप्पे चप्पे पर सीसीटीवी कैमरा इंस्टॉल है. घटना मंगलवार की देर रात की बताई जा रही है जब कैंटीन संचालक अपने कैंटीन में बने कमरे में सोए थे, तभी अज्ञात अपराधियों के द्वारा कैंटीन संचालक अरुण कुमार सिंह की चाकू से गोदकर उनकी बेरहमी से हत्या कर दी गई. मामले को लेकर लोगों में चर्चाओं का बाजार गर्म है.

खिड़की के रास्ते घुसा हत्यारा

लोगों का कहना है कि स्टेशन पर 24 घंटे लोगों के आवागमन और पुलिस गश्ती होने के बावजूद इस तरह से घटना का होना सुरक्षा व्यवस्था पर बड़ा सवाल खड़ा कर रहा है. परिजनों की मानें तो दो दिन पूर्व उक्त कैंटीन में चोरी की घटना को अंजाम दिया गया था. स्थानीय लोगों ने बताया कि घटना बुधवार की अहले सुबह करीब 3:30 बजे की है, जब हत्यारा खिड़की के रास्ते घुसा और स्टोर रूम में सोए संचालक को चाकू मारकर गेट के रास्ते भाग निकला. इस वारदात की किसी को कानो कान तक भनक तक नहीं मिली. उक्त घटना को लेकर जब आरपीएफ को सूचना दी गई तो उन्होंने जीआरपी का मामला बताते हुए घटना मौके पर जाने से इंकार कर दिया.

दो साल पहले भी रेलकर्मी की हुई थी हत्या

बता दें कि 2 वर्ष पूर्व आरपीएफ के बैरक के महज 10 कदम के बगल में एक रेलवे कर्मचारी की दिनदहाड़े जलाकर हत्या कर दी गई थी. उस मामले भी कोई कार्रवाई नहीं की गई थी. रेलवे जंक्शन पूर्व से ही नशेड़ियों और उच्चकों की शरण स्थली बना हुआ है. चर्चा यह भी है कि देह व्यापार का धंधा भी यहां से संचालित किया जाता है, बावजूद जीआरपी एवं रेल पुलिस कार्रवाई नहीं कर पाती है. इस मामले को लेकर डॉग स्क्वायड को टीम को बुलाया जा रहा है.

Tags: Bihar News, Crime In Bihar, Murder

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर