अपना शहर चुनें

States

बिहार: मुख्य सचिव ने गांव में बनवाया अस्पताल, CM ने किया उद्घाटन पर नहीं आ रहे डॉक्टर

बिहार के मुख्य सचिव के गांव का अस्पताल
बिहार के मुख्य सचिव के गांव का अस्पताल

बिहार सरकार के मुख्य सचिव दीपक कुमार ने वर्ष 2012 में स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव रहते हुए बिहार के शिवहर जिले में स्थित अपने पैतृक गांव में अस्पताल बनवाया था. स्वास्थ्य विभाग की बेरुखी से इस अस्पताल में नहीं आते डॉक्टर.

  • Share this:
शिवहर. बिहार में स्वास्थ्य सेवा और अस्पतालों की व्यवस्था को लेकर हमेशा से सवाल उठते रहे हैं. जिला के सरकारी अस्पतालों में लोग रोजाना कई तरह की दिक्कतों से रू-बरू हो रहे हैं. लेकिन आज हम आपको बता रहे हैं एक ऐसे अस्पताल की कहानी जो बिहार के सबसे बड़े अधिकारी के गांव में है लेकिन वहां के अस्पताल में भी डॉक्टर नहीं आते.

बिहार सरकार के मुख्य सचिव दीपक कुमार का गांव शिवहर जिले के पिपराढ़ी प्रखंड के कमरौली में है जहां वर्ष 2012 में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के हाथों शुरू किये गये अस्पताल की कहानी बेहद खराब है. कई मायनों मे देखा जाय़े तो यह अस्पताल दूसरे अस्पतालों की तुलना में अलग रसूख रखता है, लेकिन हालात से मजबूर और अधिकारियों की कमी के कारण इस अस्पताल को देखने वाला कोई नहीं है. इस अस्पताल में डॉक्टर नहीं आते जिसके कारण स्थानीय लोगों को कोई लाभ नहीं मिल पा रहा है.

बिहार सरकार के मुख्य सचिव दीपक कुमार के पैतृक गांव में यह अस्पताल आम लोगों की सुविधा को ध्यान में रखकर बनाया गया था. लेकिन हालात यह है कि अस्पताल में डॉक्टरों के आने का कोई समय निर्धारित नहीं है. दीपक कुमार वर्ष 2012 में स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव थे, जिन्होंने अपने पैतृक गांव में इस अस्पताल के निर्माण के लिये अपनी पुश्तैनी जमीन दान में दी थी. अपनी मां के नाम पर उन्होंने अस्पताल का नाम रखा और उद्घाटन के लिये मुख्यमंत्री को यहां लाया. लेकिन स्वास्थ्य महकमे की बेरुखी से अस्पताल की हालत बेहद खराब है.



अस्पताल में सुविधा के लिये तमाम संसाधान उपलब्ध कराये गये हैं लेकिन इनका भी इस्तेमाल नहीं हो पा रहा है. दीपक कुमार फिलहाल बिहार सरकार के मुख्य सचिव हैं. अस्पताल के निर्माण पर तकरीबन 60 लाख रुपये खर्च किये गये थे. बेहतरीन अस्पताल का निर्माण कराया गया. लोगों में उम्मीद जगी कि अब उन्हें इलाज के लिये दूसरी जगह नहीं जाना होगा. लेकिन लोगों की उम्मीदों पर पानी फिर गया.
कमरौली गांव के रामप्रीत मंडल का कहना है कि यहां डॉक्टर साहेब का दर्शन ही नहीं होता. इलाज के लिये शिवहर या फिर पड़ोसी जिला सीतामढ़ी जाना पड़ता है. शिवहर जिले के सिविल सर्जन डॉक्टर आरपी सिंह अस्पताल में डॉक्टर नहीं आने के पीछे कोरोना महामारी को जिम्मेवार बताते हैं. उनका कहना है कि कोरोना महामारी को लेकर हो सकता है चिकित्सकों की डयूटी किसी दूसरे कामों मे लगायी गयी हो जिसके कारण वहां डॉक्टर नहीं जा पा रहे हैं. हालाकि कमरौली सरकारी अस्पताल में एक डॉक्टर की प्रतिनियुक्ति है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज