Parihar Assembly Seat: तीसरी बार वोट डालने को तैयार हैं परिहार के मतदाता, पिछले चुनाव में था नजदीकी मुकाबला

Parihar Assembly Seat profile:परिहार सीट पर बीजेपी का कब्‍जा है. (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)
Parihar Assembly Seat profile:परिहार सीट पर बीजेपी का कब्‍जा है. (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)

Parihar Assembly Seat profile:परिहार विधानसभा सीट साल 2008 में परिसीमन के बाद अस्तित्‍व में आई थी. इसके बाद से इस विधानसभा सीट के लिए तीसरी बार वोटिंग होगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 18, 2020, 9:56 PM IST
  • Share this:
सीतामढ़ी. चुनावी राजनीति के लिहाज से बिहार का सीतामढ़ी जिला बेहद महत्‍वपूर्ण है. इसके अंतर्गत विधानसभा की 8 सीटें आती हैं. इन्‍हीं में से एक परिहार सीट भी है. यह सीतामढ़ी संसदीय क्षेत्र के अंतर्गत आता है. यहां से राष्‍ट्रीय जनता दल (RJD) दिग्‍गज नेता रामचंद्र पूर्वे ने चुनाव लड़ा था, लेकिन भाजपा की गायत्री देवी से वे जीत नहीं सके थे. वर्ष 2015 के चुनाव में बीजेपी ने यहां अपना परचम लहराया था. यहां यह गौर करने वाली बात है कि पिछले विधानसभा चुनाव में जेडीयू और बीजेपी ने अलग-अलग चुनाव लड़ा था. सीएम नीतीश कुमार की पार्टी ने वर्ष 2015 का चुनाव आरजेडी और कांग्रेस के साथ मिलकर लड़ा था. रामचंद्र पूर्वे महागठबंधन की ओर से परिहार से उम्‍मीदवार थे. परिहार सीट परिसीमन के बाद वर्ष 2008 में अस्तित्‍व में आई थी.

इस बार बदले हैं हालात
वर्ष 2015 के विधानसभा चुनाव में भी महागठबंधन और एनडीए के प्रत्‍याशियों में टक्‍कर थी. ऐसे में पिछड़ी जाति और मुस्लिम बहुल सीतामढ़ी जिले में महागठबंधन का पलड़ा अपेक्षाकृत भारी माना जा रहा था. इसके बावजूद बीजेपी ने यहां पर अपनी जीत सुनिश्चित की. हालांकि, जीत का अंतर बेहद ही कम था. इस बार जेडीयू, बीजेपी और लोजपा जैसी पार्टियां एकजुट होकर चुनाव लड़ रही हैं. ऐसे में इस बार परिहार से महागठबंधन की राह पिछले चुनाव के मुकाबले थोड़ी मुश्किल हो सकती है.


छोटी पार्टियों ने भी भी दिखाया था दम


परिहार में वर्ष 2020 में तीसरी बार विधानसभा के चुनाव होंगे. इससे पहले इस सीट के अस्तित्‍व में आने के बाद से वर्ष 2010 और 2015 में चुनाव हुए थे. परिहार विधानसभा सीट पर वर्ष 2015 में 2,84,175 मतदाता पंजीकृत थे. इनमें से 1,63,042 मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया था. बीजेपी की गायत्री देवी को इनमें से 66,388 मत प्राप्‍त हुए थे. वहीं, उनकी निकटतम प्रतिद्वंद्वी आरजेडी के रामचंद्र पूर्वे को 62,371 वोट मिले थे. इन दोनों दलों के अलावा बसपा और जेएपीएल जैसे छोटे दलों ने भी अपनी उपस्थिति दर्ज कराई थी. इन दोनों पार्टियों के प्रत्‍याशियों को पांच हजार से ज्‍यादा मत प्राप्‍त हुए थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज