Sitamarhi Assembly Seat: इस बार बदले हैं हालात, NDA और महागठबंधन में कड़ा चुनावी मुकाबला होने की उम्‍मीद

Sitamarhi Assembly Seat profile: सीतामढ़ी विधानसभा सीट पर इस बार कड़ा चुनावी मुकाबला होने की उम्‍मीद है. (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)
Sitamarhi Assembly Seat profile: सीतामढ़ी विधानसभा सीट पर इस बार कड़ा चुनावी मुकाबला होने की उम्‍मीद है. (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)

Sitamarhi Assembly Seat Profile: सीतामढ़ी विधानसभा सीट पर इस बार वर्ष 2015 के चुनावों के मुकाबले ज्‍यादा कड़ी चुनावी प्रतिस्‍पर्धा देखने को मिल सकती है. JDU के महागठबंधन से अलग होने के बाद चुनावी समीकरण बदल गए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 20, 2020, 11:14 AM IST
  • Share this:
सीतामढ़ी. बिहार की राजनीतिक पार्टियां इन दिनों चुनाव की तैयारी में लगी हैं. इस बार का चुनाव वर्ष 2015 की ही तरह NDA बनाम महागठबंधन होने की उम्‍मीद है. बस कुछ घटक दल इधर से उधर हुए हैं. इस वजह से इस बार के चुनावी समीकरण बदले हुए हैं. JDU, BJP और LJP जैसी पार्टियां एनडीए के बैनर तले एक साथ उतरने की तैयारी में हैं. दूसरी तरफ, RJD और कांग्रेस के अलावा अन्‍य छोटे दल महागठबंधन के साथ चुनाव लड़ने की तैयारी में हैं. इन सभी दलों के लिए सीतामढ़ी संसदीय क्षेत्र में आने वाली विधानसभा की 8 सीटें बेहद महत्‍वपूर्ण हैं. इन्‍हीं आठ में से सीतामढ़ी असेंबली सीट भी एक है. इसके तहत मुख्‍य रूप से जिले का शहरी इलाका आता है.

सीतामढ़ी विधानसभा सीट पर आमतौर पर भाजपा का दबदबा रहा है, लेकिन वर्ष 2015 के चुनाव में आरजेडी उम्‍मीदवार ने यहां से जीत हासिल की थी. वर्ष 2015 के चुनाव में जेडीयू, राजद, कांग्रेस समेत अन्‍य दलों ने महागठबंधन बनाया था. यह सीट महागठबंधन के प्रमुख घटक दल राजद के हिस्‍से में गई थी. राजनीतिक प्रेक्षकों का मानना है कि ऐसे में वोट न बंटने के कारण भाजपा उम्‍मीदवार को हार का सामना करना पड़ा था. हालांकि, इस बार सियासी समीकरण कुछ और हैं. भाजपा और जदयू एक साथ चुनाव लड़ रही हैं. ऐसे में महागठबंधन के प्रत्‍याशी को सीतामढ़ी सीट पर इस बार वर्ष 2015 की तुलना में कड़े मुकाबले का सामना करना पड़ सकता है.

पिछले चुनाव में RJD को मिली थी सफलता
वर्ष 2015 के विधानसभा चुनाव में नवगठित महागठबंधन और एनडीए के बीच सीधा मुकाबला हुआ था. सीतामढ़ी की सीट आरजेडी के हिस्‍से में गई थी. पिछले चुनाव में इस सीट पर 2,59,355 पंजीकृत मतदाता थे. इनमें से 1,64,358 वोटर्स ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया था. आरजेडी उम्‍मीदवार सुनील कुमार को 81,557 म‍त हासिल हुए थे, जबकि भाजपा के सुनील कुमार उर्फ पिंटू को 66,835 वोट मिले थे और वह दूसरे स्‍थान पर रहे थे. तीसरे स्‍थान पर निर्दलीय प्रत्‍याशी रहा था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज