बंधक बनाए गए भारतीय नागरिक को नेपाल पुलिस ने छोड़ा, ऐसे सुलझा मामला
Sitamarhi News in Hindi

बंधक बनाए गए भारतीय नागरिक को नेपाल पुलिस ने छोड़ा, ऐसे सुलझा मामला
नेपाल पुलिस की हिरासत से भारतीय को रिहा कर दिया गया है.

सीतामढ़ी के SP अनिल कुमार ने इस मसले पर अपनी रिपोर्ट सौंपी थी. इसके बाद स्‍थानीय प्रशासन और नेपाल पुलिस (Nepal Police) के बीच बातचीत के बाद इस बंधक को छुड़ाया गया.

  • Share this:
पटना/सीतामढ़ी. 12 जून की सुबह करीब 8.40 बजे सीतामढ़ी के सोनबरसा में नेपाल बॉर्डर इलाके (Nepal Border Area) के जानकीनगर गांव के पास नेपाल पुलिस ने अधाधुंध फायरिंग (Nepal Police Firing) की थी. इसमें चार लोगों को गोली लगी थी, जिसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई थी. इस बीच नेपाल पुलिस ने लगन राय नाम के एक व्यक्ति को बंधक भी बना लिया था, जिसे अब छोड़ दिया गया है. मिली जानकारी के अनुसार, जिस लड़के की मौत हुई थी, उसके परिजन धरने पर बैठ गए थे और मृत व्यक्ति का दाह संस्कार करने से इनकार कर दिया था. इसके बाद नेपाल प्रशासन और सीतामढ़ी के स्थानीय प्रशासन की बातचीत हुई और हिरासत में लिए गए लगन राय को रिहा किया गया. स्थानीय प्रशासन की नेपाल पुलिस से बातचीत के बाद ये हल निकला है.

बता दें कि शुक्रवार को इस घटना पर बिहार के सीतामढ़ी के पुलिस अधीक्षक अनिल कुमार ने अपनी रिपोर्ट सौंप दी थी. रिपोर्ट के मुताबिक, नेपाल के सुरक्षा बलों द्वारा हिरासत में लिए गए लगन राय नाम के व्यक्ति की रिहाई के लिए बिहार सरकार के अनुरोध पर भारत सरकार और नेपाल अथॉरिटी के संपर्क की भी बात सामने आई थी.





बता दें कि इस मामले में एसएसबी के डीजी कुमार राजेश चंद्रा, सीतामढ़ी की डीएम अभिलाषा कुमारी शर्मा और एसपी अनिल कुमार ने इसे स्थानीय मुद्दा बताया था और इसका सीमा विवाद से कोई नाता न होने की बात कही थी. इस घटना में नेपाल पुलिस ने 18 राउंड फायरिंग की थी. घटना से पहले भी दो बार नेपाल पुलिस ने लोगों को खदेड़ा था. तीसरी बार भारतीयों पर अंधाधुंध फायरिंग कर दी.
दरअसल, कोरोना वायरस के संक्रमण के खतरे को देखते हुए अभी भारत-नेपाल बॉर्डर सील है. आवाजाही बंद होने के बावजूद सीतामढ़ी जिला निवासी लगन राय अपने पुत्र के साथ किसी महिला रिश्तेदार से मिलने बॉर्डर पार गए थे. इसी क्रम में नेपाल पुलिस उनको बॉर्डर से भगाना चाह रही थी. कहा जा रहा है कि पिता-पुत्र ने थोड़ी देर की मोहल्लत मांगी तो एपीएफ (नेपाल सशस्त्र प्रहरी बल) ने उनके लड़के पर लाठी चला दी. लगन राय को घसीटते हुए बॉर्डर से 100 मीटर दूर ले गई और उसके बाद उनको बंधक बना लिया.


बिहार के सीतामढ़ी में भारत-नेपाल सीमा पर हुई गोलीबारी
बिहार के सीतामढ़ी में भारत-नेपाल सीमा पर हुई गोलीबारी के बाद मामले की जांच के लिए पहुंची पुलिस



ग्रामीणों की मानें तो नेपाल पुलिस की यह हरकत देखकर बॉर्डर पर क्रिकेट खेल रहे कुछ युवकों और खेतों में काम कर रहे लोगों ने इस कार्रवाई का विरोध किया. इसके बाद नेपाल पुलिस ने अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी. हालांकि, नेपाल पुलिस की ओर से कहा जा रहा है कि उन्होंने अपनी सुरक्षा में फायरिंग की है. उनका आरोप है कि भारतीय उनकी बंदूक छीनना चाह रहे थे. नेपाल पुलिस उनको तस्कर भी बता रही है.

ये भी पढ़ें

Video: नेपाल पुलिस ने भारतीयों को दो बार खदेड़ा फिर दनादन बरसा दीं 18 गोलियां!

भाईचारे से रहने वाले भारत और नेपाल के बीच क्यों हुआ सीमा विवाद?
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज