Assembly Banner 2021

नेपाल पुलिस के चंगुल से छूटे भारतीय की आपबीती- लाठीचार्ज के बाद दनादन गोलियां दागने लगे जवान

नेपाल के कब्जे से मुक्त हुआ बंधक बनाया गया लगन राय

नेपाल के कब्जे से मुक्त हुआ बंधक बनाया गया लगन राय

नेपाल पुलिस (Nepal Police) की हिरासत से मुक्त हुए लगन राय ने बताया कि फायरिंग के बाद लोग जमा हुए, तो नेपाल पुलिस के जवान लाठियों से मारने- पीटने लगे थे.

  • Share this:
सीतामढ़ी. नेपाल पुलिस (Nepal Police) ने बंधक बनाए गए भारतीय नागरिक को छोड़ दिया है. इस मामले को स्थानीय स्तर पर ही सुलझा लिया गया. इसमें सीतामढ़ी की जिलाधिकारी के साथ एसपी और स्थानीय एसएसबी के अफसरों की भूमिका रही है. इस बीच रिहा किए गए लगन राय ने बताया कि उनका बेटा नेपाल की सीमा में था और वह ससुराल के परिजनों से मिलने नेपाल के सरलाही में था. लगन राय ने कहा, 'मेरे लड़के ने बताया कि समधियाने से लोग आए हैं, तो मैं भी चला गया. इसी क्रम में बेटे ने बताया कि उसे नेपाल पुलिस ने मारा है.' लगन राय ने आगे कहा, 'मैंने नेपाल पुलिस से बस इतना कहा कि अपने ससुरालवालों से मिलने आया है, आपको नहीं मारना चाहिए था. इसपर कुछ बहस हुई जिसके बाद से ही नेपाल पुलिस उग्र हो गई और थाने से कुछ सिपाहियों को बुलवा लिया और अचानक 5-7 फायरिंग कर दी.'

नेपाल पुलिस की हिरासत से मुक्त हुए लगन राय ने बताया कि फायरिंग के बाद लोग जमा हुए तो नेपाल पुलिस के जवान लाठियों से मारने-पीटने लगे और इसके बाद अचानक दनादन गोलियां दागने लगी. इस फायरिंग में जानकीनगर टोला लालबंदी निवासी नागेश्वर राय के 25 वर्षीय पुत्र विकेश कुमार की जान चली गई. वहीं, विनोद राम के पुत्र उमेश राम व सहोरवा निवासी बिंदेश्वर शर्मा के पुत्र उदय शर्मा घायल हैं. इसी दौरान नेपाल पुलिस ने लगन राय को अपने हिरासत में ले लिया.

Youtube Video




बता दें कि शुक्रवार को इस घटना पर बिहार के सीतामढ़ी के पुलिस अधीक्षक अनिल कुमार ने अपनी रिपोर्ट सौंप दी थी. रिपोर्ट के मुताबिक, नेपाल के सुरक्षा बलों द्वारा हिरासत में लिए गए लगन राय नाम के व्यक्ति की रिहाई के लिए बिहार सरकार के अनुरोध पर भारत सरकार और नेपाल अथॉरिटी के संपर्क की भी बात सामने आई थी.
बता दें कि इस मामले में एसएसबी के डीजी कुमार राजेश चंद्र, सीतामढ़ी की डीएम अभिलाषा कुमारी शर्मा और एसपी अनिल कुमार ने इसे स्थानीय मुद्दा बताया था और इसका सीमा विवाद से कोई नाता न होने की बात कही थी.

Youtube Video


दरअसल, कोरोना वायरस के संक्रमण के खतरे को देखते हुए अभी भारत-नेपाल बॉर्डर सील है. आवाजाही बंद होने के बावजूद सीतामढ़ी जिला निवासी लगन राय अपने पुत्र के साथ किसी महिला रिश्तेदार से मिलने बॉर्डर पार गए थे. इसी क्रम में नेपाल पुलिस उनको बॉर्डर से भगाना चाह रही थी.

ये भी पढ़ें

Video: नेपाल पुलिस ने भारतीयों को दो बार खदेड़ा फिर दनादन बरसा दीं 18 गोलियां!

भाईचारे से रहने वाले भारत और नेपाल के बीच क्यों हुआ सीमा विवाद?
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज