पुलिस सिर्फ नकारात्मक छवि वाली नहीं होती, उसका मानवीय चेहरा ऐसा भी होता है...
Sitamarhi News in Hindi

पुलिस सिर्फ नकारात्मक छवि वाली नहीं होती, उसका मानवीय चेहरा ऐसा भी होता है...
सीतामढ़ी के महिला थाने में आयोजित की गई यह शादी.

प्यार से इनकार कर रहे देवर और उसके घरवालों को पुलिसवालों ने समझाया. तब देवर अपनी विधवा भाभी से शादी करने को सहमत हुआ. एसपी के निर्देश पर महिला थाने में यह शादी आयोजित की गई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 3, 2020, 10:22 PM IST
  • Share this:
सीतामढ़ी. अक्सर पुलिस की नकारात्मक छवि (Negative image) वाली खबरें सामने आती रहती हैं. उनकी कोताही, लापरवाही और अमानवीय व्यवहार के किस्सों ने आम आदमी और पुलिस के बीच गहरी खाई बना रखी है. पर पुलिस का यह नकारात्मक चरित्र पूरी तरह सच नहीं है. एक सच यह भी है कि पुलिस भी समाज को जोड़ने का काम करती है, तमाम दंगे-फसादों से उलझती और सुलझाती पुलिस का भी एक मानवीय चेहरा (Human face) है. सीतामढ़ी (Sitamarhi) के महिला थाने में आयोजित शादी समारोह (Wedding ceremony) में पुलिस का यही मानवीय चेहरा उभर कर सामने आया है. इस शादी के आयोजन में पुलिस ने एक तरह से लड़की पक्ष की भूमिका निभाई है.

पंचायतों में नहीं बनी बात

मामला नेपाल के बेलवा गांव की रहने वाली रंजीता कुमारी का है. पांच साल पहले परसौनी थाना के मदनपुर गांव के दिनेश सहनी से उसकी शादी हुई थी. दिनेश सहनी से ढाई साल का एक बेटा भी रंजीता को है. साल भर पहले बिजली का करंट लगने से दिनेश सहनी की मौत हो गई. पति की मौत के बाद वह ससुराल में ही रह रही थी. इस बीच उसकी जिंदगी में उसका देवर संतोष सहनी आया. दोनों के बीच प्यार हुआ और प्यार परवान चढ़ने लगा. रंजीता के मायके वाले अब संतोष के साथ अपनी बेटी की शादी के ख्वाब देखने लगे. लेकिन इस लव स्टोरी में रंजीता का देवर प्यार में इकरार करने के बजाये इनकार करने लगा. बात पंचायतों तक जा पहुची. लेकिन मामले का समाधान नहीं हो सका.



इनकार को इकरार में बदलवाया पुलिस ने
तब रंजीता ने अपना प्यार पाने के लिए पुलिस का दरवाजा खटखटाया. थाने में पंचायती हुई. बात जिले के एसपी तक जा पहुंची. एसपी के निर्देश पर पुलिसकर्मियों ने रंजीता के देवर को काफी समझाया. समाजिक स्तर पर भी प्रयास हुआ, तब जाकर लड़का पक्ष शादी करने को राजी हुआ. एसपी अनिल कुमार के निर्देश पर वर-वधू के लिए मिठाइयों और कपड़ों का इंतजाम किया गया. शादी की रस्म पूरी होने तक पुलिसवाले वहां मौजूद रहे. शादी संपन्न होने के बाद उन्होंने वर-वधू को अपना आशिर्वाद भी दिया और बेहतर भविष्य की कामना की.

सीतामढ़ी पुलिस की हो रही चौतफा तारीफ

पुलिस के इस नए चेहरे को देखने के बाद लोगों में अजीब तरह की खुशी देखी जा रही है. पुलिस का दरवाजा खटखटाने वाली महिला को जिस तरह से पुलिस की मदद मिली, उसकी चौतरफा तारीफ हो रही है. सीतामढ़ी पुलिस ने महिला थाने में आयोजित इस शादी में डगमगाते विश्वास को मजबूत आधार दिया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज