अस्पताल ने नहीं दिया एंबुलेंस, पति के पास पैसे नहीं थे, पत्नी की हो गई मौत

जब हमारी टीम ने बेलसंड स्वास्थ्य केन्द्र का जायजा लिया तो पता चला कि पिछले चार महीनो से वहा एंबुलेंस सुविधा नही है. भाड़े के वाहनो से मरीज यहां आते हैं. पीएचसी प्रभारी भी यहां कार्य अवधि मे गायब मिले. उनके कक्ष में ताला लगा हुआ था.

News18 Bihar
Updated: September 16, 2018, 8:40 AM IST
अस्पताल ने नहीं दिया एंबुलेंस, पति के पास पैसे नहीं थे, पत्नी की हो गई मौत
108 एंबुलेंस
News18 Bihar
Updated: September 16, 2018, 8:40 AM IST
सीतामढ़ी के बेलसंड मे एक गरीब महिला की एंबुलेंस न मिलने के कारण मौत हो गई. बेलसंड के नगर पंचायत के वार्ड नंबर आठ में रहने वाले भिखारी साह की पत्नी ललिता देवी 13 सितम्बर की रात को प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र मे भर्ती हुई. डॉक्टरों ने खराब हालत को देखते हुए मुजफ्फरपुर रेफर कर दिया लेकिन एंबुलेंस की व्यवस्था नहीं थी. भिखारी के पास पैसे नहीं थे. वो पत्नी को घर ले गया जहां अगले ही दिन उसने दम तोड़ दिया.

इधर दूसरी ओर जब हमारी टीम ने बेलसंड स्वास्थ्य केन्द्र का जायजा लिया तो पता चला कि पिछले चार महीनो से वहा एंबुलेंस सुविधा नही है. भाड़े के वाहनो से मरीज यहां आते हैं. पीएचसी प्रभारी भी यहां कार्य अवधि मे  गायब मिले. उनके कक्ष में ताला लगा हुआ था.

वहां मौजूद दूसरे सरकारी डॉक्टर एंबुलेंस नहीं होने की पुष्टि कर रहे हैं. अस्पताल के इमरजेंसी रजिस्टर में ललिता देवी के यहां भर्ती होने और उसको रेफर करने का समय इस बात को भी दर्शाता है कि किस तरीके से यहां के चिकित्सको ने उसके इलाज को लेकर रस्म अदायगी की थी.

दूसरी ओर सीतामढ़ी के प्रभारी सिविल सर्जन यह मानते हैं कि जिले मे एंबुलेंस सुविधा की कमी के कारण गरीब मरीजों को असुविधा होती है लेकिन ललिता देवी के सवाल पर उन्होने अनभिज्ञता जाहिर की. सीतामढ़ी मे कागज पर कुल एंबुलेंस की संख्या है 28 है जिसमे से 13  पिछले कई महीनो से खराब पड़ा है. कई एंबुलेंस इसलिए भी नहीं चल रहे क्योंकि ड्राइवर नहीं है.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर