लाइव टीवी

सीतामढ़ी की आशा खेमका के संघर्ष को ब्रिटेन की महारानी का सलाम

News18
Updated: March 18, 2014, 1:47 PM IST
सीतामढ़ी की आशा खेमका के संघर्ष को ब्रिटेन की महारानी का सलाम
14 साल की उम्र में शादी। 36 साल की उम्र में अपनी पहली डिग्री लेने का फैसला और आज वेस्ट नॉटिंघमशायर कॉलेज की प्रिंसिपल। यह कहानी है बिहार के सीतामढ़ी में जन्‍मी आशा खेमका, जिसको हाल ही में ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ में डेम सम्‍मान मिला है। बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार, यह सम्‍मान पाने वाली यह भारतीय मूल की दूसरी महिला हैं।

14 साल की उम्र में शादी। 36 साल की उम्र में अपनी पहली डिग्री लेने का फैसला और आज वेस्ट नॉटिंघमशायर कॉलेज की प्रिंसिपल। यह कहानी है बिहार के सीतामढ़ी में जन्‍मी आशा खेमका, जिसको हाल ही में ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ में डेम सम्‍मान मिला है। बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार, यह सम्‍मान पाने वाली यह भारतीय मूल की दूसरी महिला हैं।

  • News18
  • Last Updated: March 18, 2014, 1:47 PM IST
  • Share this:
14 साल की उम्र में शादी। 36 साल की उम्र में अपनी पहली डिग्री लेने का फैसला और आज वेस्ट नॉटिंघमशायर कॉलेज की प्रिंसिपल। यह कहानी है बिहार के सीतामढ़ी में जन्‍मी आशा खेमका, जिसको हाल ही में ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ में डेम सम्‍मान मिला है। बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार, यह सम्‍मान पाने वाली यह भारतीय मूल की दूसरी महिला हैं।

आशा खेमका की माँ के निधन के बाद 14-15 साल की उम्र में उनकी शादी कर दी गई। कुछ साल पटना में रहने के बाद वे पति और तीन बच्चों के साथ ब्रिटेन आ गईं। आशा ने भारत में थोड़ी बहुत अंग्रेजी पढ़ी थी, लेकिन कभी अंग्रेजी में बात नहीं की थी। इसके बाद सोच लिया कि अंग्रेजी सीखनी है तो फिर टीवी देखना, बच्चों को पढ़ना और अन्‍य लोगों की बातों को सुननी शुरू की। इसी तरह अंग्रेजी सीख ली।

इतना ही नहीं बस यही से मन में कुछ कर गुज़रने की ख़्वाहिश पैदा हुई और 36 साल की उम्र में अपनी पहली डिग्री लेने का फ़ैसला  किया। अपने बच्चों और पति डॉक्टर शंकर लाल खेमका का पूर साथ मिला। आशा खेमका याद करते हुए बताती हैं कि उनकी पहली थीसीज़ उनके बेटे ने टाइप करके दी थी।

इसके बाद वह धीरे-धीरे सफलता की सीढ़ियाँ चढ़ने लगीं और अब वे ब्रिटेन में वेस्ट नॉटिंघमशायर कॉलेज की प्रिंसिपल हैं और पिछड़े वर्ग के लिए काम करती हैं- सिर्फ़ शिक्षा के क्षेत्र में नहीं बल्कि उन्हें रोज़गार लायक बनाने के लिए भी। उन्होंने अपनी चैरिटी भी शुरु की है।

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सीतामढ़ी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 18, 2014, 1:40 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर