सीतामढ़ी : बिहार की नेपाल सीमा से जुड़ते इलाकों पर अब प्रधानमंत्री मोदी की निगाह

कार्यक्रम में मौजूद अतिथिगण.

कार्यक्रम में मौजूद अतिथिगण.

सीतामढ़ी की नेपाल की सीमा से जुड़े इलाकों में भारत विरोधी ताकतों की बढ़ चुकी गतिविधि और नेपाल से तल्ख होते रिश्तों को देख कर प्रधानमंत्री ने इन इलाकों को देशभक्ति से ओतप्रोत करने की मुहिम शुरू कर दी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 29, 2020, 8:29 PM IST
  • Share this:

सीतामढ़ी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नजर अब बिहार के उन इलाकों पर है, जिनकी सीमा नेपाल से जुड़ती है. हाल के दिनों में नेपाल की सीमा से जुड़े इलाकों में भारत विरोधी ताकतों की बढ़ चुकी गतिविधि और नेपाल से तल्ख होते रिश्तों को देख कर प्रधानमंत्री ने इन इलाकों के युवा-युवतियों को सशक्त और देशभक्ति से ओतप्रोत करने की मुहिम शुरू कर दी है. सीतामढ़ी की नेपाल सीमा से लगने वाले इलाकों के कुल 8 सरकारी स्कूल के बच्चों को एनसीसी का प्रशिक्षण देने के लिए कैंप शुरू किया गया है. सीएम नरेंद्र मोदी ने वर्चुअल माध्यम से इन कैंपों का उद्घाटन किया. बच्चों को उत्साहित करने के लिए एनसीसी के ब्रिगेडियर प्रवीण कुमार मौजूद थे. कार्यक्रम में स्थानीय लोग और जनप्रतिनिधियों ने भी अपनी हिस्सेदारी निभाई.

सीतामढ़ी के मेजरगंज प्रखंड के इंडो-नेपाल सीमा से महज 400 मीटर दूर श्रीशंकर उच्च विद्यालय मारपा सिरपाल में सोमवार को बिहार बटालियन मुजफ्फरपुर के तत्वावधान में एनसीसी कैंप का उद्घाटन किया गया. विद्यालय के छात्राओं ने स्वागत गान से समारोह की शुरुआत की. ब्रिगेडियर प्रवीण कुमार ने कहा एनसीसी के माध्यम से छात्रों को अनुशासन और एकता का पाठ पढ़ाया जाता है. एनसीसी का मोटो अनुशासन और एकीकरण है. एनसीसी केंद्र से इस क्षेत्र के युवाओं में और अधिक आत्मविश्वास आएगा और उनमें प्रेरणा का विकास होगा. जब युवा देश के विकास से जुड़ेंगे तो उनके परिवार का भी विकास होगा. जहां एक ओर युवा अनुशासित रहेंगे, वही शारीरिक रूप से भी वह स्वस्थ रहेंगे. सेना सहित विभिन्न केंद्रीय सुरक्षाबलों में भर्ती के लिए तैयारी करने में भी सुविधा होगी.

Youtube Video

एमएलसी देवेश चंद्र ठाकुर ने इस कार्य के लिए विद्यालय प्रबंधन सहित एनसीसी यूनिट को बधाई देते हुए कहा कि देश के 99 प्रतिशत लोगों को सेना पर गर्व है और सेना भर्ती के लिए एनसीसी एक मुख्य जरिया है. जहां से युवा-युवती सेना में भर्ती होकर राष्ट्र की सेवा कर सकेंगे. सेना भर्ती कार्यालय मुजफ्फरपुर के निदेशक कर्नल बॉबी जसरौटिया ने लोगों को आगाह करते हुए कहा कि सेना में भर्ती के लिए कुछ लोग फ्रॉड कर रहे हैं, उनके बहकावे में न आएं. उन्होंने एमसीसी को छात्रों के लिए चौमुखी विकास का माध्यम बताते हुए कहा कि एनसीसी में ए सर्टिफिकेट के लिए पांच मार्क्स, बी सर्टिफिकेट के लिए 10 और सी सर्टिफिकेट मिलने पर लिखित परीक्षा देने की जरूरत नहीं होती है. उन्होंने एक उदाहरण देते हुए कहा कि कुछ फ्रॉड लोगों के द्वारा सोलह सौ मीटर की दौड़ कराई जाती है और उसमें अव्वल आए प्रतिभागियों को यह समझाया जाता है कि हमारी सेना भर्ती के अधिकारियों से सीधी पहचान है और उनसे भर्ती के नाम पर उगाही की जाती है. जबकि उनका सिलेक्शन उनके मेरिट के आधार पर होता है. इसलिए अभिभावकों से अपील है कि झांसे में न आएं.
कार्यक्रम को बथनाहा विधायक अनिल राम, डीईओ सचिंद्र कुमार, कर्नल मनमोहन सहित अन्य वक्ताओं ने एनसीसी के बारे में विस्तार से बताया. कार्यक्रम के अंत में अतिथियों का स्वागत जानकी उद्भव मेमेंटो देकर किया गया. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा राष्ट्रीय कैडेट कोर प्रशिक्षण विद्यालय के लिए 8 विद्यालयों का चयन किया गया, जिसमें मेजरगंज प्रखंड के जेबी प्लस टू उच्च विद्यालय, श्रीशंकर प्लस टू उच्च विद्यालय, सोनबरसा प्रखंड के श्रीराम गुलाम उच्च माध्यमिक विद्यालय कन्हौली भासर और उत्क्रमित माध्यमिक विद्यालय इनरवा, बैरगनिया प्रखंड के प्लस टू जोहरीमल उच्च विद्यालय, परिहार के सोनफी बिजली प्लस टू उच्च विद्यालय कोरिया पिपरा और प्लस टू शहीद चंद्र नाथ प्रोजेक्ट बालिका उच्च विद्यालय गोरहारी, सुरसंड प्रखंड के राजकीयकृत प्लस टू विशेश्वर शाही बालिका हाई स्कूल शामिल हैं. इनसे संबंधित प्रधानाध्यापकों को प्रमाण पत्र दिया गया.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज