सीतामढ़ी: बाढ़ प्रभावित इलाकों में धारा 144 लागू, अधिकारियों और कर्मचारियों की छुट्टियां रद्द

डीएम रणजीत सिंह ने जानकारी दी है कि जिले के सभी अधिकारियों और कर्मचारियों की छुट्टियों को रद्द करने का फैसला किया गया है.

News18 Bihar
Updated: July 13, 2019, 11:30 PM IST
सीतामढ़ी: बाढ़ प्रभावित इलाकों में धारा 144 लागू, अधिकारियों और कर्मचारियों की छुट्टियां रद्द
बिहार के सीतामढ़ी जिले में बाढ़ के चलते धारा 144 लागू
News18 Bihar
Updated: July 13, 2019, 11:30 PM IST
बिहार का सीतामढ़ी जिला भयानक बाढ़ से प्रभावित है. प्रशासन ने जिले के बाढ़ प्रभावित इलाकों में धारा 144 लागू कर दिया है. जिले के डीएम रणजीत सिंह ने जानकारी दी है कि जिले के सभी अधिकारियों और कर्मचारियों की छुट्टियों को रद्द करने का फैसला किया गया है. जिले के सभी बाढ़ प्रभावित इलाकों में बीडीओ और सीओ को प्रखंड मुख्यालय में कैम्प करने का निर्देश दिया गया है.

बता दें कि पिछले कुछ दिनों से भारी बारिश के चलते बिहार में अधिकांश नदियों में लगातार पानी बढ़ रहा है. जिसके चलते संवेदनशील इलकों में भयंकर बाढ़ का खतरा उत्पन्न हो गया है. राज्य के प्रिंसिपल आपदा प्रबंधन सेक्रेटरी का कहना है कि बिहार के 6 जिले नदियों के बढ़ते जलस्तर से प्रभावित हैं. इन जिलों में सीहोर, सीतामढ़ी, उत्तरी चम्पारन, मधुबनी, अररिया और किसनगंज शामिल हैं.



नेपाल से सटे इलाकों में हाई अलर्ट
आपदा प्रबंधन के राज्य अधिकारियों के अनुसार कोसी, गंडक, बूढ़ी गंडक, गंगा और बागमती नदियों का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है. जिसके चलते इन नदियों के निकटवर्ती इलाके में रहने वाले लोगों के लिए बाढ़ का खतरा बढ़ गया है. जलसंसाधन विभाग के अधिकारिक सूत्रों का कहना है कि संवेदनशील जिलों में विशेषरूप से नेपाल से सटे इलाकों में हाईअलर्ट जारी किया गया है.

कोसी के तटबंध के रिपेयरिंग का काम पूरा
उत्तर बिहार के जिलों में पिछले 24 घंटों में भारी वर्षा हुई है. जलसंसाधन विभाग के अधिकारिक बयान में कहा गया है कि सभी संबंधित इंजीरियों को कहा गया है कि वह अपने सभी जरूरी सामान के साथ किसी भी स्थित से निपटने के लिए तैयार रहें. वहीं सरकार का कहना है कि कोसी के पूर्वी तटबंध के रिपेयर करने और मजबूत करने का काम पूरा कर लिया गया है. जिसके चलते उत्तरी बिहार के पांच बाढ़ सवेंदनशील जिले सुरक्षित हैं.

ये भी पढ़ें: 
Loading...


 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...