लाइव टीवी

कोरोना को हराने के लिए मां जानकी की जन्मस्थली में अनोखी पहल, पुनौरा गांव को ग्रामीणों ने किया सील
Sitamarhi News in Hindi

Rakesh Ranjan | News18 Bihar
Updated: April 3, 2020, 9:01 PM IST
कोरोना को हराने के लिए मां जानकी की जन्मस्थली में अनोखी पहल, पुनौरा गांव को ग्रामीणों ने किया सील
पुनौरा गांव की सारी परिधि को 5 जोन में बांट कर उसकी बैरकैटिंग कर दी गई है.

कोरोना वायरस से बचाव के मद्देनजर मां जानकी की जन्मस्थली पुनौरा गांव के लोगों ने देश और दुनिया में एक अलग संदेश देने का काम किया है.

  • Share this:
सीतामढ़ी. बिहार (Bihar) के सीतामढ़ी (Sitamarhi) जिले में कोरोना वायरस (Coronavirus) से बचाव के लिए समाज का हर तबका अपने स्तर से लोगों में जागरूकता फैलाने की कोशिश में जुटा है. कोई लॉकडाउन (Lockdown) मे फंसे गरीबों को भोजन करा रहा है तो कोई उनके बीच महामारी से बचाव के लिए सेनेटाईजर, साबुन और मास्क का वितरण कर रहा है. वहीं, कोरोना वायरस के संक्रमण के खतरे के मद्देनजर जिले के पुनौरा गांव को ग्रामीणों ने सील कर दिया है.

मां जानकी की जन्मस्थली है पुनौरा 
सीतामढ़ी शहर से तकरीबन आधा किलोमीटर की दूरी पर पुनौरा गांव बसा है. गांव न सिर्फ शिक्षित है बल्कि इसका अपना पौराणिक महत्व है. रामायण काल से इस पवित्रस्थल का रिश्ता है. यहां माता सीता धरती के गर्भ से प्रकट हुई थीं. इस मायने मे यह जगह देश और दुनिया में अलग मुकाम रखता है.

गांव को 5 जोन में बांट कर बैरकेडिंग



वहीं, कोरोना वायरस से बचाव के मद्देनजर पुनौरा गांव के लोगों ने देश और दुनिया में एक अलग संदेश देने का काम किया है. गांव की सारी परिधि को 5 जोन में बांट कर उसकी बैरकेडिंग कर दी गई है. गांव के लोगों ने ग्राम पंचायत के जनप्रतिनिधियों के साथ बैठक करके पूरे गांव को सील कर दिया है. कोई भी बाहरी शख्स इस गांव में स्थानीय लोगों की मर्जी के बगैर प्रवेश नहीं कर सकता. अगर प्रवेश करना बहुत जरूरी है तो उन्हे सबसे पहले अपना हेल्थ कार्ड दिखलाना पड़ता है.



गांव के सारे लोग हैं सजग और सतर्क

गांव के लोग भी अगर गांव से बाहर जाते हैं तो वापस आने पर उन्हें भी सेनेटाइज किया जाता है. उनका हाथ धुलवाया जाता है. इसी गांव के रहने वाले सामाजिक कार्यकर्ता आलोक वत्स इस पूरे अभियान का नेतृत्व कर रहे हैं. आलोक वत्स की संस्था 'मानव सेवा समिति' के बैनर तले यह काम किया जा रहा है. इनके नेतृत्व में गांव के प्रत्येक मोहल्ले को सेनेटाइज कराया जा रहा है. इतना ही नही गांव के लोगों के बीच साबुन और मास्क का भी वितरण कराया जा रहा है. गांव के गरीब लोगों को इस संस्था के द्वारा मुफ्त भोजन भी उपलब्ध कराने की बात कही जा रही है. लाउडस्पीकर के जरिए गांव में कोरोना वायरस से बचाव को लेकर प्रचार-प्रसार किया जा रहा है.

क्या कहते हैं ग्रामीण

आलोक वत्स कहते हैं कि यह अभियान बेहद जरूरी था. प्रधानमंत्री आमलोगों से अपील कर रहे हैं. बचाव ही इसका एक रास्ता है. ऐसी परिस्थिति में अगर समाज के लोग जागरूक नहीं होंगे तो देश की हालत खराब हो जाएगी, क्योंकि हमारे देश का हेल्थ सिस्टम बेहद कमजोर है. जिन देशों के हेल्थ सिस्टम मजबूत हैं, वहां लाश उठाने के लिए लोग कम पड़ रहे हैं. आलोक वत्स ने कहा कि गांव को सेनेटाइज करने की पूरी तैयारी है. एक से दो दिनों के भीतर पूरे गांव को सेनेटाइज कर दिया जाएगा.

ये भी पढ़ें-

पीएम मोदी ने की 'प्रकाश की शक्ति' दिखाने की अपील तो तेजप्रताप ने कही ये बात...

तीन दिनों से भूखी बहनों ने PMO को किया फोन तो राशन ले दौड़े-दौड़े पहुंचे अफसर

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सीतामढ़ी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 3, 2020, 8:18 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading