शहाबुद्दीन के गढ़ में 'गरजे' लालू, निशाने पर रहे सीएम और पीएम

ETV Bihar/Jharkhand
Updated: August 13, 2017, 5:45 PM IST
शहाबुद्दीन के गढ़ में 'गरजे' लालू, निशाने पर रहे सीएम और पीएम
सभा को संबोधित करते लालू
ETV Bihar/Jharkhand
Updated: August 13, 2017, 5:45 PM IST
बिहार में सत्ता से बेदखल होने और नीतीश का साथ छूटने के बाद रविवार को लालू पहली बार जनता के बीच उनका मिजाज जानने पहुंचे. 2015 के चुनाव में जिस नीतीश के लिए लालू ने वोट मांगा था आज उन्हीं के खिलाफ सीवान से उन्होंने जंग का एलान कर दिया.

लालू अपने जिस अंदाज के लिए जाने जाते हैं आज उसी अंदाज और तेवर से सब पर हमला बोला. बिहार की सत्ता हाथ से जाने के बाद लालू की बौखलाहट देखने लायक थी. लालू ने जनता के बीच खुले मंच से नीतीश को ललकारा और मोदी को भी चुनौती दे डाली.

लालू यादव ने मंच से ही केंद्र सरकार और नीतीश कुमार पर तंज कसते हुए कहाकि महागठबंधन तोडऩे की सारी प्लानिंग भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के साथ मिलकर नीतीश ने कर ली थी. लालू ने कहा कि मेरा इस इलाके से पुराना नाता है. यहां के लोग हमेशा मेरे साथ रहेंगे.

नीतीश को बिहार की जनता सिखाएगी और तब पता चलेगा कि जनाधार किसके साथ है. लालू के समक्ष पूर्व मंत्री अवध बिहारी चौधरी फिर से राजद से जुड़़े. जहां एक तरफ लालू अपने विरोधयों पर ताबतोड़ हमला किए जा रहे थे वही लोगों को गुदगुदाने के लिए कभी नीतीश का मिमिक्री करते तो कभी लोगों को डांट रहे थे.

लालू अक्सर रैलियों में कुछ अपने इसी अंदाज से जनता को अपनी ओर खींचते रहे हैं.भारी संख्या में अपने समर्थकों को देख लालू गदगद थे और उन्होंने कहा कि यह तो मेरा गढ़ है.
First published: August 13, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर