ऑक्सीजन के अभाव में मासूम के गईल जान, लाश लेकर मोटरसाइकिल से गईलन परिजन

लापरवाही की घटना सामने आवे के बाद सदर अस्पताल के व्यवस्था पर सवाल उठ रहल बा.

News18 Bihar
Updated: December 5, 2018, 10:16 PM IST
ऑक्सीजन के अभाव में मासूम के गईल जान, लाश लेकर मोटरसाइकिल से गईलन परिजन
मासूम के लाश को लेकर बिलखते परिजन
News18 Bihar
Updated: December 5, 2018, 10:16 PM IST
छपरा सदर अस्पताल में एक बार फिर बड़ा लापरवाही सामने आइल बा. ए बार ऑक्सीजन के अभाव में एगो क मासूम बच्ची की  के जान चल गईल बा. बच्चे की मौत के बाद भी अस्पताल के नींद ना खुलल आउर बच्ची के परिजन लाश लेकर मोटरसाइकिल से घरे गईलन बाकिर शव वाहन ना मिलल.

मामला अइसन बा कि मुफस्सिल थाना के साढा निवासी शम्भू राय अपना बेटी रितिका के उपचार खातिर छपरा सदर अस्पताल लेकर इलाज जहां डॉक्टर उनका के ऑक्सीजन लगा देहलस. लेकिन थोड़ा देर बाद ही ऑक्सीजन खत्म हो गईल. परिवार वाला के तब पता चलल जब बच्ची छटपटाए लागल. 15 मिनट तक परिवार वाला अस्पताल में डॉक्टर आ ऑक्सीजन खोजत फिरल.

बाकिर ऑक्सीजन ना मिलल जेकरा बाद बच्ची के मौत हो गईल. बच्ची के बाद मौत के बाद ड्यूटी पर मौजूद डॉक्टर शमीम बच्ची के हाल जाने पहुंचलन जहां परिजन से उनकर कहासुनी हो गईल.

ये भी पढ़ें- साथी की हत्या के विरोध में सड़क पर उतरे पटना हाईकोर्ट के वकील

पूछे पर डॉक्टर बताइलन की ऑक्सीजन लगावल उनकर जिम्मेवारी नईखे. मौत के बाद रोवत बिलखत परिजन लाश लेकर मोटरसाइकिल से घरे गईलन बाकी अस्पताल प्रबंधन शव वाहन ना प्रबंध करइलस.

ये भी पढ़ें- पटना विश्वविद्यालय छात्र संघ चुनाव में 58 फीसदी वोटिंग 

लापरवाही की घटना सामने आवे के बाद सदर अस्पताल के व्यवस्था पर सवाल उठ रहल बा. लेकिन सिविल सर्जन के एमें कोनो लापरवाही नजर नइखे आवत। सिविल सर्जन ललित मोहन प्रसाद के कहना बा की बच्ची सीरियस हालत में लावल गइल रहे जहां से ओकरा के पटना रेफर कर देवल गइल रहे.
First published: December 5, 2018, 10:06 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...