लाइव टीवी

बिहार उपचुनाव : चाचा नीतीश को भतीजे तेजस्वी ने ऐसे दी मात, पढ़ें RJD-JDU टक्कर की पूरी कहानी

News18 Bihar
Updated: October 24, 2019, 4:32 PM IST
बिहार उपचुनाव : चाचा नीतीश को भतीजे तेजस्वी ने ऐसे दी मात, पढ़ें RJD-JDU टक्कर की पूरी कहानी
बिहार उपचुनाव में सीएम नीतीश कुमार की प्रतिष्ठा दांव पर थी तो तेजस्वी यादव की साख भी फंसी हुई थी. (फाइल फोटो)

जेडीयू के लिए सीवान की दरौंदा सीट भी बडा सेटबैक रही. यहां पार्टी के प्रत्याशी अजय सिंह हार गए हैं. अजय सिंह की बीजेपी के बागी कैंडिडेट कर्णजीत सिंह उर्फ व्यास सिंह से करीब 15 हजार से अधिक वोटों से हार हुई.

  • Share this:
पटना. बिहार में हुए एक लोकसभा और 5 विधानसभा सीटों के उपुचनाव के परिणाम को लेकर कहा जा रहा था कि इसमें सीएम नीतीश कुमार (Nitish Kumar) की साख दांव पर लगी थी तो तेजस्वी यादव (Tejaswi Yadav) के नेतृत्व क्षमता की परख होनी है. अब जब चुनाव नतीजे सामने आ गए हैं तो ये साफ है कि उपचुनाव के परिणाम जेडीयू के लिए बड़ा झटका हैं. राष्ट्रीय जनता दल (RJD) ने जेडीयू की चार में से दो सीटें छीन ली हैं और एक सीट पर कड़ी टक्कर दे रही है. जबकि जेडीयू से एक सीट बीजेपी के बागी ने भी झपट ली है. जाहिर है उपचुनाव के नतीजों/रुझानों से साफ हो गया कि बिहार में नीतीश चाचा पर भतीजा तेजस्वी भारी पड़ गया है.

बेलहर में जेडीयू पर भारी पड़ा परिवारवाद
बेलहर विधानसभा सीट से जेडीयू के गिरधारी यादव विधायक थे और 2019 के लोकसभा चुनाव में वह बांका से चुने गए. उनके लोकसभा जाने के बाद बेलहर सीट पर उपचुनाव हुआ तो उन्होंने अपने भाई को यहां से टिकट दिला दिया. हालांकि जेडीयू के कार्यकर्ता इससे नाराज रहे जिसका असर चुनाव परिणाम पर भी पड़ा और यहां से आरजेडी के रामदेव यादव ने 22 हजार से अधिक मतों से बड़ी जीत दर्ज की. जेडीयू के लिए ये भी सेटबैक रहा कि उसे बीजेपी के कैडर वोट का समर्थन नहीं मिला.

सिमरी बख्तियारपुर में हावी रहा तेजस्वी फैक्टर

आरजेडी के प्रत्याशी जफर आलम ने यहां जेडीयू के अरुण यादव को बड़ी मात दी है. ये जीत इसलिए भी अहम है कि निषाद वोटों में  सेंधमारी के लिए महागठबंधन में शामिल विकासशील इंसान पार्टी ने दिनेश निषाद को मैदान में उतारा था. उन्होंने करीब 20 हजार से अधिक वोट भी हासिल किए. वहीं, आरजेडी के जफर आलम ने करीब 15 हजार मतों से जीत हासिल की. जाहिर है अगर निषाद फैक्टर भी आरजेडी के पक्ष में गया होता तो आरजेडी की ये जीत और बड़ी होती.


नाथनगर में एकजुट रहा 'MY' समीकरण
नाथनगर विधानसभा सीट (Nath nagar Assembly Seat) पर आरजेडी की राबिया खातून और जेडीयू के लक्ष्मीकांत मंडल के बीच कड़ा मुकाबला रहा. खबर लिखे जाने तक महज 1400 मतों से ही जेडीयू प्रत्याशी आगे चल रहे थे. जबकि मतगणना के दौरान कई बार आरजेडी प्रत्याशी ने उन पर बढ़त बनाई. ये आंकड़ा तब का है जब  महागठबंधन से नाराज जीतनराम मांझी ने अपनी पार्टी हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा से अजय राय को भी खड़ा किया था और उन्होंने आरजेडी के वोटबैंक में सेंधमारी भी की. (यहां परिणाम का इंतजार है)


Loading...

जेडीयू के लिए सीवान की दरौंदा सीट भी बडा सेटबैक रही. यहां  पार्टी के प्रत्याशी अजय सिंह हार गए हैं. अजय सिंह की बीजेपी के बागी कैंडिडेट कर्णजीत सिंह उर्फ व्यास सिंह से करीब 15 हजार से अधिक वोटों से हार हुई. जाहिर है बीजेपी के बागी कैंडिडेट का इतने बड़े अंतर से जीतना अपने आप में जेडीयू की खिसकती जमीन का एक बड़ा उदाहरण है.

ये भी पढ़ें- 

समस्तीपुर लोकसभा उपचुनाव: इन 5 कारणों से जीत की राह पर आगे बढ़ रहे प्रिंस राज
समस्तीपुर लोकसभा:LJP के प्रिंस राज 39 हजार मतों से आगे, चिराग ने दी शुभकामनाएं

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बांका से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 24, 2019, 3:27 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...