• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • नवरात्रि में तेजस्वी यादव पर बरसी 'भइया' की कृपा, तेज प्रताप ने दिया ये आशीर्वाद!

नवरात्रि में तेजस्वी यादव पर बरसी 'भइया' की कृपा, तेज प्रताप ने दिया ये आशीर्वाद!

तेज प्रताप यादव ने लालू यादव के बिहार आने से पहले यह साफ कर दिया कि वह राजद के खिलाप चुनाव प्रचार नहीं करेंगे.

तेज प्रताप यादव ने लालू यादव के बिहार आने से पहले यह साफ कर दिया कि वह राजद के खिलाप चुनाव प्रचार नहीं करेंगे.

Tejpratap Yadav-Tejaswi Yadav News: तेज प्रताप यादव ने यह साफ कर दिया है कि वह न तो कुशेश्वरस्थान और न ही तारापुर विधानसभा उपचुनाव में प्रचार करेंगे. तेज प्रताप ने ऐसी बातों को खारिज करते हुए इसे महज अफवाह करार दिया है.

  • Share this:

    पटना/सीवान. राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के भीतर तेज प्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) और तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) के बीच तल्खी की खबरें लगातार सामने आ रही थीं. तेज प्रताप यादव के बागी तेवर देख यह समझ रहे थे कि तेजस्वी-तेज प्रताप के बीच किसी बात को लेकर तनातनी इस हद तक पहुंच गई है कि इसे अब खुद लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) ही संभाल सकते हैं. लेकिन, लालू के 20 अक्टूबर को पटना आने की खबरों के बीच राजद और तेजस्वी के लिए राहत की बात यह है कि तेज प्रताप यादव ने साफ कर दिया है कि वह बिहार विधानसभा उपचुनाव में कहीं चुनाव प्रचार करने नहीं जा रहे हैं. इसके साथ ही तेज प्रताप यादव ने अपने छोटे भाई तेजस्वी यादव को बिहार का मुख्यमंत्री बनने का आशीर्वाद देकर सभी सियासी कयासबाजियों पर भी विराम लगा दिया है.

    बता दें कि तेज प्रताप यादव राजद के दिवंगत पूर्व सांसद मो. शहाबुद्दीन के बेटे ओसामा शहाब की बारात लेकर बुधवार को सिवान के चांदपाली गांव पहुंचे थे. यहीं पर पटना से सिवान जाने के क्रम में तेज प्रताप यादव ने संवाददातओं से बातचीत के दौरान तेज प्रताप यादव ने अपने छोटे भाई तेजस्वी यादव को बिहार का मुख्यमंत्री (Bihar Chief Minister) बनकर जनता की सेवा करने का आशीर्वाद दिया. इसके साथ ही यह भी साफ कर दिया कि वह न तो कुशेश्वरस्थान और न ही तारापुर विधानसभा में उपचुनाव प्रचार करेंगे. तेज प्रताप ने ऐसी बातों को खारिज करते हुए साफ तौर पर इसे अफवाह करार दिया.

    बता दें कि राष्ट्रीय जनता दल में राजनीतिक विरासत को लेकर लालू यादव के बेटे तेजस्वी यादव और तेज प्रताप यादव के बीच अंदरुनी मनमुटाव की खबरें आ रही थीं. तेज प्रताप यादव के हाल के बयानों से साफ था कि वह राजद में लगातार उपेक्षा से आहत हैं और कुछ अलग करने की सोच रहे हैं. हाल में उन्होंने11 अक्टूर को एलपू मूवमेंट (लालू प्रसाद आंदोलन) के लिए पटना में पदयात्रा भी की थी. इससे पहले उन्होंने राजद से अलग छात्र जनशक्ति नामक एक संगठन भी बनाया था. तेज प्रताप यादव कई बार खुले मंच से अपनी नाराजगी भी जाहिर कर चुके हैं.

    तेज प्रताप यादव के रवैये को लेकर शिवानंद सिंह और रामा सिंह जैसे नेताओं ने इतना तक कह डाला था कि तेज प्रताप यादव अब राजद में हैं कि नहीं यह नहीं पता. रामा सिंह ने तो यहां तक कह दिया था कि उनके रहने या न रहने से राजद को कोई फर्क नहीं पड़ने वाला. हालांकि दूसरी ओर तेजस्वी यादव ने कभी भी अपने बड़े भाई पर कोई तीखी टिप्पणी नहीं की. लेकिन, इतना जरूर कहा था कि राजद के हर सदस्य को अनुशासन में रहना होगा. दरअसल राजद के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह और तेज प्रताप यादव के बीच 36 का अंकड़ा माना जाता है. पर अब तेज प्रताप यादव के बयान से राजद के लोगों को सुकून मिला है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज