सीएम नीतीश कुमार ने दिये निर्देश- बिहार को बाढ़ से बचाने के लिए बांध में स्टील पाइप का होगा इस्तेमाल

गोपालगंज में सीएम नीतीश कुमार बांध का निरीक्षण करने दल-बल के साथ पहुंचे.

गोपालगंज में सीएम नीतीश कुमार बांध का निरीक्षण करने दल-बल के साथ पहुंचे.

बिहार (Bihar) के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार आज गोपालगंज में (Gopalganj) के बैकुंठपुर प्रखंड के पकहां में जमींदारी बांध के मरम्मत कार्य का निरीक्षण करने पहुंचे. यहां पर उन्होंने बांध में स्टील पाइप (Steel Pipe) का प्रयोग करने के निर्देश दिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 21, 2021, 10:25 PM IST
  • Share this:
पटना. बिहार (Bihar) के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार रविवार को गाेपालगंज (Gopalganj) के बैकुंठपुर प्रखंड के पकहां में जमींदारी बांध के मरम्मत कार्य का निरीक्षण करने पहुंचे. निरीक्षण के दौरान मुख्यमंत्री ने 15 मई तक हर हाल में बांध की मरम्मत का कार्य पूरा करने का निर्देश दिया. गोपालगंज में हर साल बांध टूटने के चलते बड़ी तबाही होती रही है, ऐसे में मुख्यमंत्री ने कहा की जब तक बांध मजबूत नहीं होगा, तब तक बाढ़ का खतरा बना रहेगा. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बिहार में पहली बार बांध निर्माण में स्‍टील पाइप लगाने का निर्देश दिया.

मुख्यमंत्री के स्पॉट विजिट के दौरान जल संसाधन विभाग के मंत्री संजय झा और विभाग के अधिकारी भी मौजूद थे. मुख्यमंत्री ने विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिया कि काम कैसे बेहतर होगा, इस पर फोकस करने की जरूरत है. उन्होंने जल संसाधन विभाग के रिटायर पदाधिकारियों को भी बुलाकर सलाह लेने का अधिकारियों को निर्देश दिया.

जानें बिहार विधानसभा में कौन दो नेता हैं CM नीतीश कुमार के 'आंख' और 'कान'

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अधिकारियों को बांध निर्माण में पहली बार स्टील के पाइप का इस्तेमाल करने के लिए कहा. सीएम ने कहा कि जहां घनी आबादी हो, वहां गंडक नदी के तटबंध निर्माण में स्टील शीट पाइप भी लगाई जाएगी, ताकि बाढ़ के दौरान बांध को क्षति ना हो सके. बिहार में पहली बार बांध के निर्माण में स्टील शीट पाइप का उपयोग किया जाएगा.
स्टील शीट पाइप से उपयोग से तटबंधों को काफी मजबूती मिलेगी. स्टील शीट बाढ़ के हालात में पानी के 10 मीटर अंदर तक बांध को मजबूती प्रदान करेगा. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जमींदारी बांध के उन हिस्सों का भी निरीक्षण किया, जहां-जहां पिछले साल बांध टूटा था और उस बारे में जल संसाधन विभाग के अधिकारियों से जानकारी ली.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज