लाइव टीवी

अंतिम संस्कार की हो रही थी तैयारी, अचानक दिखा कुछ ऐसा कि शव लेकर पहुंच गए अस्पताल

News18 Bihar
Updated: June 11, 2019, 10:15 AM IST
अंतिम संस्कार की हो रही थी तैयारी, अचानक दिखा कुछ ऐसा कि शव लेकर पहुंच गए अस्पताल
प्रतीकात्मक फोटो

बिहार के सुपौल जिले में यह घटना भीमपुर थाना इलाका स्थित केवला गांव की है. इस गांव में दो दिन पहले सीवन पासवान नामक अधेड़ शख्‍स का ब्रेन हेमरेज हुआ था, जिसके बाद उन्‍हें अस्‍पताल में भर्ती कराया गया था.

  • Share this:
बिहार के सुपौल जिले में किडनी निकालने के शक में शव को श्मशान से वापस सदर अस्पताल लाया गया. इसके बाद शव का पोस्टमार्टम किया गया. रिपोर्ट में किडनी सुरक्षित होने की पुष्टि के बाद शव को दोबारा श्मशान ले जाकर अंतिम संस्कार किया गया. इस घटना से पूरे इलाके में सनसनी फैल गई है.

यह घटना भीमपुर थाना इलाका स्थित केवला गांव की है. इस गांव में दो दिन पहले सीवन पासवान नामक अधेड़ शख्‍स को ब्रेन हेमरेज हुआ था, जिसके बाद परिजनों ने उन्हें पूर्णिया के मैक्स हास्पिटल में भर्ती कराया गया. जांच के बाद डॉक्‍टरों ने मरीज का ऑपरेशन करने का पूरा खर्च डेढ़ लाख रुपए बताया. ऐसे में परिजन मरीज को मैक्स अस्‍पताल में एक घरवाले के साथ छोड़कर पैसे का जुगाड़ करने के लिए भीमपुर आ गए. यहां से पैसे की व्यवस्था कर जैसे ही परिजन मैक्स हॉस्पिटल पहुंचे तो डॉक्टरों ने सीवन पासवान को मृत घोषित कर दिया.

पेट में चीरा लगे होने से गहराया शक
मृतक के परिजन शव को लेकर भीमपुर पहुंच गए. सोमवार सुबह दाह-संस्कार के लिए शव को श्मशान घाट लाया गया. रीति-रिवाज के अनुसार सारे कर्म करने के बाद जैसे ही परिजनों ने शव के ऊपर से कपड़े को हटाया तो सभी लोग एक चीज को देखकर दंग रह गए. दरअसल, शव के पेट पर बड़ा सा चीरा लगा हुआ था. इसके बाद परिजनों को शक हुआ कि कहीं किडनी निकाल लेने के कारण तो नहीं इनकी मौत हुई?

विधायक की पहल पर शव को श्‍मशान से लाया सदर अस्‍पताल
मामले की गंभीरत को देखते हुए स्थानीय विधायक नीरज कुमार बबलू की पहल पर शव को श्मशान से सदर अस्पताल पोस्टमार्टम के लिए लाया गया. यहां डॉक्टरों ने दोनों किडनी को सुरक्षित बताया. दरअसल, सदर अस्पताल के डॉक्‍टर अरुण कुमार वर्मा का कहना था कि ब्रेन के ऑपरेशन के दौरान स्कल को सुरक्षित रखने के लिए उसे पेट में रखा जाता है. इसके लिए पेट पर बड़ा सा चीरा लगाया जाता है, ताकि उसके अंदर स्कल को सुरक्षित रखा जा सके. यही वजह है कि चीरा का निशान देखकर मृतक के परिजनों को लगा था कि किडनी को निकाल लिया गया है. हालांकि, किडनी निकालने जैसी कोई बात नहीं थी.

ये भी पढ़ें- अन्य दलों के लिए काम करने से बन रही भ्रम की स्थिति, सफाई दें प्रशांत किशोर- नीतीश

बिहार: निगाहों की बाजीगरी से ही अद्भुत कलाकृति तैयार कर लेता है यह कलाकार

बिहार: छोटी पार्टियों के विलय प्रस्ताव पर RJD एकमत नहीं, मौका ढूंढ रही कांग्रेस

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सुपौल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 10, 2019, 10:05 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर