लाइव टीवी

सुपौल में मक्के की फसल से बेहाल किसानों ने दी सामूहिक आत्मदाह की चेतावनी

ETV Bihar/Jharkhand
Updated: February 28, 2018, 4:12 PM IST
सुपौल में मक्के की फसल से बेहाल किसानों ने दी सामूहिक आत्मदाह की चेतावनी
मकई की बाली दिखाते किसान

सदर प्रखंड के बैरिया पंचायत के सैकड़ों एकड़ में फैली मक्के की फसल में बालियां तो हैं परन्तु उसमें दाने नहीं हैं. इससे हताश किसान सीधे तौर पर कृषि विभाग को जिम्मेवार ठहराते हैं.

  • Share this:
बिहार के सुपौल में कृषि विभाग की सलाह पर हाईब्रिड बीज से मक्के की खेती करने वाले किसानों का हाल बेहाल है. मक्के की बाली में दाने नहीं होने से किसान सरकार और कृषि विभाग को सीधे-सीधे जिम्मेवार मानते हैं.

सदर प्रखंड के बैरिया पंचायत के सैकड़ों एकड़ में फैली मक्के की फसल में बालियां तो हैं परन्तु उसमें दाने नहीं हैं. इससे हताश किसान सीधे तौर पर कृषि विभाग को जिम्मेवार ठहराते हैं. किसानों का कहना है कि कृषि विभाग शिविर आयोजित कर लाइसेंसी दुकान से बीज खरीदने को कहती है.

इस पंचायत के भारी और बभनी गांव के अधिकांश किसान ने हाईब्रिड बीज एलजी 34.05 बीज का इस्तेमाल मक्के की खेती के लिए किये. शुरुआत में फसल तो ठीक ठाक लगा परंतु जब बाली आई तो देखा उसमें दाना ही नहीं है.

किसानों का कहना है कि जो किसान अपना बीज बोते हैं वह तो बच जाते हैं लेकिन जो किसान हाईब्रिड बीज का इस्तेमाल करते है उसके मक्के में दाना भी नही निकल पाते हैं.किसानों ने कहा कि अगर हमलोगों को मुआवजा नहीं मिला तो प्रदर्शन करेंगे उससे भी न्याय नहीं मिला तो आत्महत्या करेंगे.

इस मामले में जिला कृषि पदाधिकारी प्रवीण कुमार झा ने बताया कि हमें भी इस बात की जानकारी मिली है. इस संबंध में मैंने कृषि विज्ञान केंद्र राघोपुर के वैज्ञानिकों से बात की है. वे सबौर मीटिंग में गए हैं उनके आते ही हम किसानों के खेतों में जाएंगे और जररूत होने पर मुआवाजा दिया जायेगा.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सुपौल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 28, 2018, 4:09 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर