लाइव टीवी

सुपौल में पूर्व जेएनयू छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार के काफिले पर पथराव, हुए घायल

Amit kumar jha | News18 Bihar
Updated: February 5, 2020, 11:11 PM IST
सुपौल में पूर्व जेएनयू छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार के काफिले पर पथराव, हुए घायल
कन्हैया कुमार पर हमला

एक सभा करके सहरसा जा रहे कन्हैया कुमार पर कुछ लोगों ने हमला कर दिया. इस दौरान गाड़ी के ड्राइवर का सिर फट गया, उनका इलाज चल रहा है.

  • Share this:
सुपौल. बिहार के सुपौल से एक बड़ी खबर आ रही है. जेएनयू के पूर्व छात्र संघ नेता कन्हैया कुमार के काफिले पर कुछ लोगों ने पत्थरों से हमला कर दिया. इस हमले में गाड़ी के ड्राइवर का सिर फट गया, जबकि कन्हैया कुमार भी घायल हो गए हैं. दोनों को निकट के अस्पताल में प्राथमिक इलाज के लिए ले जाया गया है.

मिली जानकारी के मुताबिक, एक सभा करके सहरसा जा रहे कन्हैया पर कुछ लोगों ने पत्थरों से हमला कर दिया. घटना सदर थाना के मल्लिक चौक की है. इस हमले के दौरान गाड़ी का कांच टूट गए. गाड़ी चला रहे ड्राइवर का सिर फट गया. पत्थरबाजी की घटना में कन्हैया भी घायल हो गए. उनका इलाज चल रहा है. अधिक जानकारी की प्रतीक्षा है.



इससे पहले छात्र नेता कन्हैया कुमार सीएए और एनआरसी के खिलाफ एक सभा में शामिल होने के लिए नेमनमा गांव पहुंचे. जहां कन्हैया ने लोगों से सहयोग की अपील की और आए हुए आम लोगों से डब्बे में राशि डालने का आग्रह किया. ताकि सीएए, एनआरसी के खिलाफ लड़ाई जारी रह सके.सुपौल के प्रभारी पुलिस अधीक्षक सुधीर कुमार पोरिका ने बताया, “पथराव करने वालों की पहचान कर उनकी गिरफ्तारी के लिए प्रयास किए जा रहे हैं. काफिला अपने अगले गंतव्य के लिए रवाना हो गया है.’’

एक फरवरी को सारण में हुआ था कन्हैया के काफिले पर हमला
बता दें, कन्हैया इन दिनों संशोधित नागरिकता कानून (सीएए), राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) और राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) के विरोध में राज्यव्यापी यात्रा पर हैं. इससे पहले एक फरवरी को सारण जिले में कन्हैया के काफिले पर हमला हुआ था.

'घटना के लिए पुलिस और प्रशासन जिम्मेदार'
कन्हैया के दौरों पर उनके साथ रह रहे कांग्रेस विधायक शकील अहमद खान ने हमले के लिए "पुलिस और प्रशासन की लापरवाही" को जिम्मेदार ठहराया. शकील अहमद खान ने कहा, "यह एक छोटा सा शहर है. जिस स्थान पर हमला हुआ, वह जिलाधिकारी के निवास से एक किलोमीटर से भी कम दूरी पर है. वहां जिला प्रशासन और पुलिस के अधिकारी एवं कर्मी तैनात थे, इसके बावजूद उपद्रवियों ने पत्थर फेंके, नारे लगाए और अंधेरे का फायदा उठाकर भागने में सफल रहे.'

वहीं भारतीय कम्यूनिस्ट पार्टी के राज्य सचिव सत्य नारायण सिंह ने पटना में एक बयान जारी कर इस घटना की कड़ी निंदा की और लापरवाही बरतने वाले पुलिस अधिकारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सुपौल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 5, 2020, 8:18 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर