लोकसभा चुनाव: आसान नहीं रंजीत रंजन की राह, नामांकन में नहीं पहुंचा RJD का कोई नेता

इस बार चुनावी मैदान में जेडीयू और बीजेपी दोनों ही साथ हैं. दोनों के मतों को मिला दें तो ये आंकड़ा रंजीत रंजन के वोटों से 1 लाख 90 हजार वोट अधिक हो जाता है.

News18 Bihar
Updated: April 2, 2019, 7:30 PM IST
लोकसभा चुनाव: आसान नहीं रंजीत रंजन की राह, नामांकन में नहीं पहुंचा RJD का कोई नेता
सांसद रंजीत रंजन (फाइल फोटो)
News18 Bihar
Updated: April 2, 2019, 7:30 PM IST
महागठबंधन दलों के बीच भले ही सबकुछ ठीकठाक दिखाने की कोशिश हो रही हो, लेकिन जमीनी हकीकत इन दावों से कुछ अलग है. सुपौल से जब कांग्रेस प्रत्याशी रंजीत रंजन ने नामांकन दाखिल किया तो एकता के दावों की सच्चाई सामने आ गई. रंजीत रंजन के नामांकन और चुनावी सभा में आरजेडी का एक भी बड़ा नेता नहीं दिखा.

दरअसल पप्पू यादव की पत्नी रंजीत रंजन को लेकर आरजेडी नेताओं का विरोध थमने का नाम नहीं ले रहा है. ऐसे में मोदी लहर में भी सुपौल सीट की नैया को पार लगाने वाली रंजीत रंजन के लिए इस बार चुनावी नाव डगमगाती नजर आ रही है.

ये भी पढ़ें- लोकसभा चुनाव 2019: बेगूसराय में कन्हैया कुमार का विरोध, ग्रामीणों ने रोका काफिला

दरअसल राजद नेता यदुवंश यादव का कहना है कि पप्पू यादव जब शरद यादव के विरोध में मधेपुरा से नामांकन करने जा रहे थे तो रंजीत रंजन ने उन्हें तिलक लगाकर भेजा था. उनका वीडियो भी वायरल हो रहा है. ऐसे में सुपौल सीट पर राजद की मदद से चुनावी नैया पार करना चाहती है, वहीं मधेपुरा में अपने पति को खड़ा कर आरजेडी का विरोध करती है. इनके दो चेहरे हैं, जिसे आरजेडी ने पहचान लिया है.

गौरतलब है कि सुपौल लोकसभा सीट का जातीय समीकरण कुछ ऐसा है कि दोनों ही दलों के लिए अपने ही गढ़ में यह प्रतिष्ठा बचाने की चुनौती जैसी है. यहां यादव वोटरों की संख्या 20.60 प्रतिशत , मुसलमान 16.05 प्रतिशत, ब्राह्मण 4.10 प्रतिशत, राजपूत 2.32 प्रतिशत, कोईरी 3.92 प्रतिशत, मल्लाह 4.31 प्रतिशत, बनिया 2.72 प्रतिशत, धानुक 7.28 प्रतिशत, कलवार 1.53 प्रतिशत, तेली 3.26 प्रतिशत, ततवा 2.24 प्रतिशत, रविदास 4.09 प्रतिशत, पासवान 4.88 प्रतिशत और महादलित मतदाताओं की संख्या 6.07 प्रतिशत है.

ये भी पढ़ें- कौन हैं वे पांच चेहरे जिन्होंने तेजप्रताप और तेजस्वी के बीच खड़ी कर दी बड़ी 'दीवार'

मुसलमान और यादव वोटरों पर आरजेडी अपनी दावेदारी कई दशकों से दिखाता आया है. ऐसे में सवाल उठ रहे हैं कि राजद के विरोध के बावजूद कांग्रेस सीट से रंजीत रंजन को इन जातियों का पूरा समर्थन मिल पाएगा?
Loading...

वहीं वर्ष 2014 के चुनाव में मिले मतों का हिसाब लगाएं तो रंजीत रंजन ने 3 लाख 32 हजार 927 वोट हासिल किया था और दूसरे स्थान पर JD(U) के दिल्लेश्वर कामत रहे थे. उन्हें 2 लाख 73 हजार 255 वोट मिले थे. वहीं मोदी लहर में बीजेपी से कामेश्वर चौपाल 2 लाख 49 हजार 693 वोट पाकर तीसरे स्थान पर रहे थे. रंजीत ने ये सीट 59 हजार 672 मतों से जीती थी.

ये भी पढ़ें- तीन साल की बच्ची को पड़ोसी ने चॉकलेट के बहाने बुलाया फिर फार्म हाउस में ले जाकर किया रेप

इस बार चुनावी मैदान में जेडीयू और बीजेपी दोनों ही साथ हैं. दोनों के मतों को मिला दें तो ये आंकड़ा रंजीत रंजन के वोटों से 1 लाख 90 हजार वोट अधिक हो जाता है. वहीं आरजेडी भी अगर रंजीत का विरोध करती रही तो रंजीत रंजन की जीत की राह आसान नहीं होगी.

हालांकि कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा का कहना है कि समय के साथ सब ठीक हो जाएगा और सुपौल ही नहीं पूरे बिहार में महागठबंधन अपनी जीत का परचम लहराएगा. बहरहाल अब इंतजार है 23 मई का है जब हर पार्टी के दावों की हकीकत ईवीएम मशीन से बाहर निकल आएगी.

रिपोर्ट- अमित झा

ये भी पढ़ें- सीएम नीतीश के खुलासे पर बोले संजय झा, 'नेतृत्व को मुझपर भरोसा, पार्टी का फैसला हर हाल में मान्य
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...

वोट करने के लिए संकल्प लें

बेहतर कल के लिए#AajSawaroApnaKal
  • मैं News18 से ई-मेल पाने के लिए सहमति देता हूं

  • मैं इस साल के चुनाव में मतदान करने का वचन देता हूं, चाहे जो भी हो

    Please check above checkbox.

  • SUBMIT

संकल्प लेने के लिए धन्यवाद

जिम्मेदारी दिखाएं क्योंकि
आपका एक वोट बदलाव ला सकता है

ज्यादा जानकारी के लिए अपना अपना ईमेल चेक करें

डिस्क्लेमरः

HDFC की ओर से जनहित में जारी HDFC लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड (पूर्व में HDFC स्टैंडर्ड लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड). CIN: L65110MH2000PLC128245, IRDAI R­­­­eg. No. 101. कंपनी के नाम/दस्तावेज/लोगो में 'HDFC' नाम हाउसिंग डेवलपमेंट फाइनेंस कॉर्पोरेशन लिमिटेड (HDFC Ltd) को दर्शाता है और HDFC लाइफ द्वारा HDFC लिमिटेड के साथ एक समझौते के तहत उपयोग किया जाता है.
ARN EU/04/19/13626

News18 चुनाव टूलबार

  • 30
  • 24
  • 60
  • 60
चुनाव टूलबार