लाइव टीवी

अटल जी की शोक में डूबा सुपौल, शहर की सभी दुकानें बंद

News18 Bihar
Updated: August 17, 2018, 8:32 PM IST
अटल जी की शोक में डूबा सुपौल, शहर की सभी दुकानें बंद
न्यूज18 फोटो

6 जून 2003 को एचपीएस कॉलेज निर्मली से पूर्व प्रधानमंत्री दिवंगत अटल बिहारी वाजपेयी ने कोसी महासेतु और रेल महासेतु का शिलान्यास किया था.

  • Share this:
पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की निधन की खबर के बाद बिहार के सुपौल में मातम का माहौल है. शोक में डूबे नगर के व्यवसायियों ने शुक्रवार को समूचे निर्मली शहर की दुकानें बंद कर उनके आत्मा की शांति हेतु जगह-जगह श्रद्धांजलि सभा किए.

ये भी पढ़ें - जब जोरदार बारिश के बीच अटल बिहारी बोलते रहे और लाखों की भीड़ सुनती रही

निर्मली नगर के मेन रोड पर ही व्यवसायी वर्ग टेंट-पंडाल बनाकर भगत सिंह चौक के समीप रह रहे हैं और रात से ही पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के बड़े-बड़े तस्वीरों के साथ उनको याद कर रहे हैं. मेन रोड पर आयोजित शोक सभा को संबोधित करते हुए वक्ताओं ने कहा कि कोसी, मिथिलांचल और सीमांचल को जो अटल जी ने समर्पित किया है, उसे यहां के लोग मरते दम नहीं भूला सकेंगे.

वहीं, चैम्बर ऑफ कॉमर्स निर्मली के अध्यक्ष अभिषेक पंसारी ने कहा कि अटल जी ने कोसी रेल परियोजना का शिलान्यास 6 जून 2003 को निर्मली की पावन धरती से किया था. कोसी महासेतु के जरिए आज देश की राजधानी दिल्ली और अन्य प्रदेश के लोग भी सिलचर से पोरबंदर तक सुगम यात्रा का आनंद ले रहे हैं.

ये भी पढ़ें - अटल बिहारी वाजपेयी के पसंदीदा लड्डू बन गए थे 'पासपोर्ट टू पीएम'

उधर, बीजेपी के सुपौल जिलाध्यक्ष राम कुमार राय ने कहा कि कोसी महासेतु पर आज से कुछ महीने पूर्व ही बीजेपी के बैनर तले कार्यकर्ताओं और पार्टी पदाधिकारियों के संयुक्त नेतृत्व में वहां अटल महासेतु नामकरण के बाद बोर्ड भी लगा रखे हैं. उन्होंने कहा कि अब देश के वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी से हमलोग मांग करते हैं कि इस महासेतु का नाम अटल महासेतु करने की घोषणा करें, ताकि वह कोसी-मिथिलांचल और सीमांचल ही नहीं देश और विदेशों में भी अमर रहे.
(सुपौल से अभिषेक मिश्रा की रिपोर्ट)

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सुपौल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 17, 2018, 8:32 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...