जगन्‍नाथ मिश्रा को अंतिम सलामी के वक्त क्‍यों फुस्‍स हो गई थीं सारी बंदूकें? सामने आई वजह

News18Hindi
Updated: August 25, 2019, 3:41 PM IST
जगन्‍नाथ मिश्रा को अंतिम सलामी के वक्त क्‍यों फुस्‍स हो गई थीं सारी बंदूकें? सामने आई वजह
बिहार के पूर्व मुख्‍यमंत्री जगन्‍नाथ मिश्रा का पूरे राजकीय सम्‍मान के साथ अंतिम संस्‍कार किया गया. 21 बंदूकों की सलामी के दौरान एक भी बंदूक से फायरिंग नहीं हो सकी थी. (फाइल फोटो)

बिहार के पूर्व मुख्‍यमंत्री जगन्‍नाथ मिश्रा (Bihar former CM Jagannath Mishra) का राजकीय सम्‍मान के साथ अंतिम संस्‍कार किया गया था. अंतिम सलामी (Final Salute) देते वक्‍त बिहार पुलिस के जवानों की बंदूकों ने जवाब दे दिया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 25, 2019, 3:41 PM IST
  • Share this:
बिहार के पूर्व मुख्‍यमंत्री जगन्‍नाथ मिश्रा (Bihar former CM Jagannath Mishra) का लंबी बीमारी के बाद 19 अगस्‍त को देहांत हो गया था. 21 अगस्‍त को पूरे राजकीय सम्‍मान के साथ उनका अंतिम संस्‍कार किया गया. जगन्‍नाथ मिश्रा को 21 बंदूकों की सलामी (Final Salute) के साथ अंतिम विदाई दी गई. हालांकि, बिहार पुलिस के साथ राज्‍य सरकार को भी उस वक्‍त शर्मिंदगी का सामना करना पड़ा, जब 21 की 21 बंदूकों से फायर ही नहीं हुआ. इस घटना के बाद मामले की जांच के आदेश दिए गए हैं. जांच रिपोर्ट अभी तक सामने नहीं आई है, लेकिन, बताया जाता है कि कारतूस के नम होने के कारण फायरिंग नहीं हो सकी थी. बता दें कि जगन्‍नाथ मिश्रा का अंतिम संस्‍कार सुपौल में किया गया था.

पुलिस से जुड़े सूत्रों ने बताया कि कारतूस को नमी वाले जगह पर रखने के चलते फायरिंग नहीं हो सकी थी. इस सूत्र ने कहा, 'संभव है कि कारतूस को नमी वाले जगह पर स्‍टोर करने के कारण ऐसा हुआ होगा. यह भी संभव है कि जिस पैक में खाली कारतूस रखा गया था, उससे कुछ कारतूस को निकालने के बाद उसे फिर से पैक नहीं किया गया होगा.' 'इंडियन एक्‍सप्रेस' की रिपोर्ट के अनुसार, सुपौल पुलिस के सूत्रों ने बताया कि कुछ जवानों को नया कारतूस दिया गया तो फायरिंग हो गई थी.

DGP गुप्‍तेश्‍वर पांडे ने की बदलाव की बात
इस घटना के बाद बिहार पुलिस की किरकिरी होने के बाद प्रदेश के पुलिस महानिदेशक (DGP) ने व्‍यापक बदलाव के संकेत दिए हैं. उन्‍होंने कहा कि हथियारों और कारतूसों के रखरखाव के लिए व्‍यापक आदेश लाने की तैयारी चल रही है. डीजीपी ने सालाना फायरिंग के अभ्‍यास को भी अमल में लाने की बात कही है, ताकि हथियारों को जांचा-परखा जा सके. इसके अलावा हथियारों और कारतूस को जहां रखा जाता है, उसकी जांच-पड़ताल भी वरिष्‍ठ अधिकारियों द्वारा की जाएगी.

हथियारों के रखरखाव पर उठे सवाल
बंदूकों के न चलने की घटना के बाद हथियारों के रखरखाव को लेकर गंभीर सवाल उठे हैं. शायद यह पहला मौका है जब अंतिम विदाई देने के वक्‍त बंदूकों ने जवाब दे दिया हो. इस घटना से बिहार पुलिस की तैयारियों पर भी सवाल उठने लगे हैं.

ये भी पढ़ें: 
Loading...

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्रा का दिल्ली में निधन 

बलुआ बाजार में आज होगा डॉ जगन्नाथ मिश्र का अंतिम संस्कार, CM बोले- बिहार उन्हें याद रखेगा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सुपौल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 25, 2019, 2:29 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...