48 घंटे तक भारत में रहा नेपाली गजराज का 'आतंक', पांच लोगों की मौत

पिछले 48 घंटे से नेपाल का जंगली हाथी सुपौल प्रशासन के लिए बड़ी समस्या बन गया था. इंडो-नेपाल बार्डर से 32 किमी भीतर भारतीय इलाके में राधोपुर के पास हाथी पहुंच गया था

News18 Bihar
Updated: March 8, 2019, 11:37 AM IST
48 घंटे तक भारत में रहा नेपाली गजराज का 'आतंक', पांच लोगों की मौत
सांकेतिक चित्र
News18 Bihar
Updated: March 8, 2019, 11:37 AM IST
नेपाल से हिन्दुस्तान पहुंचे जंगली हाथियों का आतंक लगातार जारी है. इस कड़ी में एक हाथी सुपौल में घुस आया और उसके हमले से 48 घंटे में पांच लोगों की मौत हो गई. हाथी ने सुपौल के राधोपुर थाना इलाके में तीन ,करजाईन में एक और किसनपुर में एक व्यक्ति की जान ले ली लेकिन इतनी जान जाने के बाबजूद लोगों को हाथी के आतंक से छुटकारा नहीं मिल सका.

ये भी पढ़ें- Women's Day: सेनेटरी नैपकिन बांट कर महिलाओं को जागरूक कर रहा बिहार का 'वुमनिया गैंग'



हाथियों को पकड़ने के लिए पटना जू से भी एक टीम सुपौल पहुंची जिसके बाद उसे नेपाल वापस भेजा जा सका. गुरुवार की तड़के सुबह किसनपुर में एक वृद्ध की जान लेने के बाद हाथी को प्रशासन द्वारा नेपाल की ओर भेजने का प्रयास किया जा रहा था. हाथी को अब बार्डर इलाके से कुछ पहले रतनपुरा तक ले जाया गया था जिसे देर रात बिना कोई नुकसान पहुंचाये नेपाल सीमा में घुसा दिया गया.

ये भी पढ़ें- प्यार करने की सजा: पहले गला दबाकर ली जान फिर यूरिया डाल शव को जला डाला

पिछले 48 घंटे से नेपाल का जंगली हाथी सुपौल प्रशासन के लिए बड़ी समस्या बन गया था. इंडो-नेपाल बार्डर से 32 किमी भीतर भारतीय इलाके में राधोपुर के पास हाथी पहुंच गया था जहां उसने दो लोगों को कुचल कर मार डाला. इस घटना मे एक बच्चा भी घायल हुआ था जिसकी इलाज के दौरान मौत हो गई.

हाथी ने करजाईन थाना इलाके में भी कल एक वृद्ध की जान ले ली थी. मौत के इस आंकड़े के बाद जिला प्रशासन ने मृतकों के परिजनों 5 लाख रुपये का मुआवजा देने की घोषणा की है. हालांकि प्रशासनिक आंकड़ा 4 मौत की ही पुष्टि कर रहा है.

रिपोर्ट- अमित कुमार झा
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

News18 चुनाव टूलबार

चुनाव टूलबार