SSR केस: पिता के वकील बोले- FIR का अधिकार बिहार के पास, केस ट्रांसफर होने की नहीं उम्‍मीद

सुशांत सिंह केस की सुप्रीम कोर्ट में हो रही है सुनवाई.
सुशांत सिंह केस की सुप्रीम कोर्ट में हो रही है सुनवाई.

बिहार सरकार ने मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में दावा किया कि अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) की मृत्यु को लेकर पटना में दर्ज करायी गई प्राथमिकी कानूनन वैध है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 12, 2020, 2:53 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. बॉलीवुड एक्‍टर सुशांत सिंह राजपूत सुसाइड केस (Sushant Singh rajput case) में प्रवर्तन निदेशालय (ED) रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) पर शिकंजा कस रहा है. वहीं रिया चक्रवर्ती की एक याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को सुनवाई की और फैसला सुरक्षित रख लिया है. इस याचिका में रिया ने मामले में दर्ज एफआईआर को बिहार से मुंबई ट्रांसफर करने की मांग की है. इस पर सुशांत सिंह राजपूत के पिता केके सिंह के वकील विकास सिंह ने प्रतिक्रिया दी है. उन्‍होंने न्‍यूज18 से बातचीत में एफआईआर बिहार से मुंबई ट्रांसफर न होने की उम्‍मीद जताई.

वकील विकास सिंह ने कहा कि बिहार के पास मामले की जांच और एफआईआर दर्ज करने का न्‍यायिक अधिकार है. मुझे उम्‍मीद है कि केस बिहार से मुंबई ट्रांसफर नहीं हो सकता है. उन्‍होंने कहा कि अगर जांच करने अधिकार है तो सीबीआई जांच करने का भी साफ रास्‍ता दिख रहा है. उन्‍होंने कहा कि अगर टेरिटोरियल न्‍यायिक जांच करने का अधिकार है तो फिर सीबीआई जांच का अधिकार भी जरूर मिलेगा.

वकील विकास सिंह ने न्यूज18 से कहा कि रिया चक्रवर्ती के वकील ने मंगलवार को कहा था कि वे लिखित सबमिशन देना चाहते हैं, हम लोगों ने भी कल कहा था कि रिटेन सबमिशन जमा करेंगे. रिया चक्रवर्ती ने खुद ही याचिका में कहा था कि सीबीआई से मामले की जांच होनी चाहिए. रिया से मंगलवार को जब सुप्रीम कोर्ट ने इस पर पूछा था कि आपने पिटीशन में लिखा है सीबीआई से जांच की मांग हो, तो फिर अब पीछे क्यों हट रही हैं.



बता दें कि बिहार सरकार ने मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट में दावा किया कि अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मृत्यु को लेकर पटना में दर्ज करायी गयी प्राथमिकी विधिसम्मत और वैध है. बिहार ने आरोप लगाया कि इस मामले की जांच के सिलसिले में मुंबई पहुंची राज्य की पुलिस के साथ महाराष्ट्र पुलिस ने कोई सहयोग नहीं किया.

न्यायमूर्ति ऋषिकेश राय की एकल पीठ के समक्ष वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से सुनवाई के दौरान बिहार सरकार ने यह भी दावा किया कि मुंबई पुलिस ने उसे सुशांत सिंह राजपूत की पोस्टमार्टम रिपोर्ट की प्रति भी उपलब्ध नहीं कराई. बिहार सरकार की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता मनिन्दर सिंह ने कहा कि राजपूत की मौत के मामले में मुंबई में अभी तक प्राथमिकी दर्ज नही की गयी है. उन्होंने इस मामले में रिया चक्रवर्ती द्वारा बिहार पुलिस पर राजनीतिक दबाव, दुराग्रह और प्रभाव में आने जैसे लगाये गये आरोपों का खंडन किया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज