शादी के दिन घोड़ी पर सवार होने से चंद घंटे पहले निकली दूल्हे की अर्थी, कोरोना संक्रमण से हुई युवक की मौत

कोरोना संक्रमण से मौत का शिकार हुआ दूल्हा. (फाइल फोटो)

कोरोना संक्रमण से मौत का शिकार हुआ दूल्हा. (फाइल फोटो)

नालंदा (Nalanda) के बिहार शरीफ में शादी के दिन घोड़ी पर सवार होने से महज कुछ घंटे पहले एक युवक की कोरोना संक्रमण (Corona Infection) से मौत (Death) हो गई. इसके बाद दोनों परिवारों में मातम छा गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 27, 2021, 11:47 PM IST
  • Share this:
नालंदा. नालंदा (Nalanda) जिले के बिहार शरीफ से एक दिल दहला देने वाली खबर आ रही. जहां कोरोना संक्रमण (Corona Infection) ने दो जिंदगी को एक होने से पहले ही हमेशा के लिए दूर कर दिया. इस घटना के बाद दोनों परिवारों पर गम का पहाड़ टूट पड़ा है.बिहार के नालन्दा जिले के बिहार शरीफ में एक एक रेलकर्मी की शादी के चंद घंटों पहले ही कोरोना संक्रमण से मौत हो गई.

दोनों घरों में शादी की तैयारियां जोरों पर थीं, लेकिन जैसा ही दूल्हे की मौत हुई तो दोनों परिवार हम में डूब गये. मृतक वीरेन्द्र पासवान बिहार शरीफ रेलवे स्टेशन पर था कार्यरत था.  दरअसल पूरी घटना के बारे में बताया जाता है कि रेलकर्मी वीरेंद्र पासवान बिहार शरीफ रेलवे स्टेशन पर सिग्नल हेल्पर के पद पर कार्यरत था. उसकी आज 27 अप्रैल को शादी होनी थी.

Youtube Video


झारखंड के साहेबगंज में घर से शादी की सारी तैयारी भी पूरी कर ली गई थी. लेकिन, 27 अप्रैल की सुबह ही कोरोना संक्रमण के कारण उनकी मौत हो गई. बताया जाता है कि रेलकर्मी वीरेंद्र पासवान की 13 अप्रैल से तबीयत खराब चल रही थी. वहीं झारखंड के साहेबगंज सदर अस्पताल में कोरोना जांच कराने के बाद कोविड-19 होने पॉजिटिव पर 15 दिन की होम आइसोलेशन पर चला गया था, जहां आज उसकी मौत कोरोना संक्रमण से हो गई.
आरा में केंद्रीय मंत्री के आदेश की उड़ी धज्जियां, कोरोन से हो रही मौतों के बाद भी अस्पताल में धूल फांक रहे वेंटिलेटर

13 अप्रैल से ही चल रहा था बीमार

बिहार शरीफ रेलवे स्टेशन पर कार्यरत सिग्नल हेल्पर बिरेंद्र पासवान की मौत कोरोना से होने की पुष्टि स्टेशन प्रबंधक बिहार शरीफ ने की है. उन्होंने बताया कि आज ही उसकी शादी होने वाली था. उसके घर में शादी का माहौल था, लेकिन शादी माहौल अचानक मातम में बदल गया. बताया जाता है कि वह पिछले सप्ताह से ही बीमार चल रहा था. जिसके कारण वह अपने पैतृक गांव साहेबगंज झारखंड में ही इलाज करवा रहा था, जहां उसकी मृत्यु हो गई.



घटना के बाद रेलकर्मियो ने जताया शोक 

जैसे ही घटना की जानकारी रेल कर्मियों को मिली तो उन्होंने घटना पर शोक जताया. कहा कि एक अच्छे रेलकर्मी के अचानक हम लोगों के बीच से चले गये जो बेहद दुखदाई है. सबसे बड़ी बात है कि उसकी शादी होनी थी. लेकिन घर से बारात निकलने के बजाय उसकी अर्थी निकली जो काफी दर्दनाक घटना है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज