बिहार चुनाव: NCP के इस ऐलान से उड़ी दिग्गजों की नींद, 145 सीट को लेकर बनाई यह बड़ी रणनीति

बिहार विधानसभा चुनाव में टिकट वितरण और रूठों को मनाने का दौर जारी है.
बिहार विधानसभा चुनाव में टिकट वितरण और रूठों को मनाने का दौर जारी है.

एनसीपी बिहार (Bihar) में अकेले लड़ेगी चुनाव एनसीपी (NCP). 145 सीट पर बिहार चुनाव लड़ेगी एनसीपी. चुनाव महागठबन्धन (Election grand alliance) में सम्मानजनक सीट नही मिलने से है नाराज.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 6, 2020, 10:18 AM IST
  • Share this:
पटना. राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) बिहार विधानसभा (Bihar Assembly) में अकेले लड़ेगी चुनाव. 145 सीट पर अकेले चुनाव लड़ने का ऐलान एनसीपी ने कर दिया है. एनसीपी का आरोप है कि चुनाव महागठबन्धन (Election grand alliance) में सम्मानजनक सीट नही मिलने से नाराज होकर उसने यह कदम उठाया है. एनसीपी बिहार (Bihar) प्रभारी और राष्ट्रीय महासचिव के के शर्मा ने कहा कि हमारी बात राजद और महागठबन से हो रही थी.

लेकिन बातचीत के दौरान सम्मनजनक समझौता नही होने के चलते हमलोगों ने बिहार में अकेले चुनाव लड़ने का फैसला किया है. गौरतलब है कि एनसीपी ने यह ऐलान ऐसे में किया है जब लगभग सभी सियासी दल अब टिकट बांटने में लगे हुए हैं. सियासी जानकार इसे इस नज़रिए से भी देख रहे हैं कि एनसीपी दूसरे दलों के नाराज़ उम्मीदवारों का ठिकाना भी हो सकता है.

एनसीपी प्रभारी ने यह बताया बिहार चुनाव का प्लान



एनसीपी बिहार प्रभारी के के शर्मा ने बताया, “145 सीटों पर हम बेहतरीन उमीदवारों को उतारेंगे. इसके लिए उमीदवारों की सूची 7 अक्टूबर को जारी की जाएगी. बिहार प्रभारी ने महागठबन्धन पर निशाना भी साधा और यह बताया कि महागठबन्धन बेमेल विचारों का जोड़ा है. जनता हमारे विचारों से अवगत है. हम युवा किसान, शिक्षा, बेरोजगारी, जैसे ज्वलन्त मुद्दों और साथ ही साथ बिहार सरकार की नाकामियों का भी विरोध करेंगे.”
यह भी पढ़ें- बड़ी सफलता- ISRO-DRDO के बाद रोहतक की यह कंपनी अब नासा और अमेरिकन आर्मी के लिए नट-बोल्ट बनाएगी

बिहार में चुनावी माहौल के बीच चर्चा है कि महागठबन्धन में सीटों के बंटवारे में छोटे दलों को नजर अंदाज किया गया है. पहले जहां वीआईपी के मुकेश सहानी ने विरोध किया और इससे पहले रालोसपा के उपेंद्र कुशवाहा ने भी महागठबन्धन को छोड़ दिया था. अब इस लिस्ट में एनसीपी का भी नाम जुड़ गया है. अगर इसी तरह महागठबन्धन से दलों का मोह भंग होता रहा तो वो दिन दूर नही जब सिर्फ महागठबन्धन में दलों के नाम पर कुछ ही लोग बचेंगे.

यह भी पढ़ें- सेंधा नमक ने ऐसे निकाल दी पाकिस्तान की हेकड़ी, कश्मीर से 370 हटने पर दिखाई थी अकड़

बिहार में इन्हें मिल चुकी है टिकट 

भभुआ सीट से भरत बिंद और मोहनिया (सुरक्षित) सीट से संगीता कुमारी को राजद का टिकट मिला है. राजद ने पार्टी के कद्दावर नेता और पूर्व मंत्री विजय प्रकाश को भी जमुई विधानसभा सीट से चुनावी मैदान में उतारा है, जबकि उनकी भतीजी और पूर्व मंत्री जयप्रकाश नारायण यादव की बेटी दिव्या प्रकाश को भी जमुई जिले के ही एक सीट से पार्टी ने अपना सिंबल दिया है. मालूम हो कि बिहार में होने वाले चुनाव को लेकर आरजेडी ने फर्स्ट पेज के लगभग सभी उम्मीदवारों के नाम तय कर दिए हैं. बिहार में पहले चरण के चुनाव में 71 सीटों के लिए वोट डाले जाने हैं.

इससे पहले सोमवार को आरजेडी ने बोधगया से सर्वजीत कुमार, भोजपुर के जगदीशपुर सीट से रामविशुन लोहिया, रोहतास जिले की नोखा सीट से अनीता देवी, जमुई सीट से विजय प्रकाश, रामगढ़ सीट से पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह के बेटे सुधाकर कुमार सिंह, बेलहर से रामदेव यादव, झाझा से राजेंद्र यादव, मखदुमपुर से सूबेदार दास, चकाई से सावित्री देवी, भोजपुर की शाहपुर सीट से राहुल तिवारी, जहानाबाद सीट से सुदय यादव को पार्टी का उम्मीदवार बनाया था. राजद ने नवीनगर से डब्लू सिंह, बेला से सुरेंद्र यादव को टिकट दिया है, जबकि नवादा से राजबल्लभ यादव की पत्नी विभा देवी को टिकट दिया गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज