Mahua Vidhansabha Seat: RJD के इस गढ़ में JDU एक बार लगा चुकी है सेंध, तेज प्रताप की जीत में खड़ी थी साथ

तेजप्रताप यादव(फाइल फोटो)
तेजप्रताप यादव(फाइल फोटो)

बिहार विधानसभा चुनाव 2020 (Bihar Assembly Election 2020): महुआ विधानसभा (Mahua Assembly Seat) पर इस बार मुकाबला दिलचस्प होने की उम्मीद है. एक तरफ राजद होगी, जिसे अपने गढ़ बचाना है, वहीं दूसरी तरफ एनडीए से जेडीयू यहां सीट की दावेदार है, जिसने 2010 में राजद से ये सीट छीनी थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 24, 2020, 11:20 PM IST
  • Share this:
वैशाली. बिहार विधानसभा चुनाव 2020 (Bihar Assembly Election 2020) में सबसे ज्यादा चर्चित सीटों से एक है महुआ विधानसभा (Mahua Assembly Seat). इस सीट पर राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) ने 2015 चुनावों से अपने राजनीतिक सफर की शुरुआत की थी. राजद का गढ़ मानी जाने वाली इस सीट पर 2010 में नीतीश कुमार की जेडीयू ने सेंध लगाई थी. हालांकि 2015 नीतीश और लालू साथ आ गए और तेज प्रताप ने एकतरफा मुकाबले में हम के रविंद्र राय को मात दे दी.

लेकिन 2020 में तस्वीर बदली हुई है. महागठबंधन बिखर चुका है. जेडीयू और हम अब एनडीए का हिस्सा हैं, ऐसे में राजद के लिए इस बार किला बचाए रखना बड़ी चुनौती रहेगी. दूसरा पहलू ये है कि तेज प्रताप यादव का उनकी पत्‍नी ऐश्‍वर्या राय से तलाक का प्रकरण अदालत में लंबित है. ऐश्‍वर्या के महुआ से चुनाव लड़ने की सुगबुगाहट के बीच तेज प्रताप ने हसनपुर से चुनाव लड़ने का ऐलान किया है. हालांकि, तेज प्रताप के ससुर चंद्रिका राय ने ऐश्‍वर्या के यहां से भी चुनाव लड़ने की संभावना जताई है.

2015 में एकतरफा रहा था मुकाबला



2015 के चुनाव में तेज प्रताप यादव ने कुल 43.34 प्रतिशत यानी 66927 वोट हासिल किए थे, जबकि रविंद्र राय को महज 25.11 प्रतिशत यानी 38,772 वोट मिले.
सीट का इतिहास
1951 में महुआ सीट से एसपी के फुदेनी प्रसाद, फिर 1957 में कांग्रेस के बीरचंद्र पाल फिर कांग्रेस के शिव नंदन राम, 1962 में कांग्रेस की मीरा देवी, 1977 में जेएनपी से फुदेनी प्रसाद जीते. इसके बाद देसाई चौधरी ने 1980 में जनता पार्टी (चरण सिंह), 1985 में लोकदल से जीत हासिल की. 1990 और 1995 में यहां से मुंशीलाल पासवान विजयी रहे, फिर 2000 में ये सीट आरजेडी के खाते में गई. यहां दसई चौधरी फिर जीते. 2005 में फरवरी और अक्टूबर में शिवचंद राम ने यहां से आरजेडी को लगातार जीत दिलाई. 2010 में यहां से जेडीयू के रविंद्र राय जीते, इसके बाद 2015 में लालू के बड़े बेटे तेज प्रताप ने आरजेडी की वापसी कराई.

ये है वोटर की स्थिति
ये सीट हाजीपुर लोकसभा क्षेत्र में आती है. 2011 की जनगणना अनुसार इस विधानसभा क्षेत्र की आबादी 415530 है, ये पूरी तरह से ग्रामीण क्षेत्र है. वहीं 2019 की वोटर लिस्ट के अनुसार यहां कुल 279419 वोटर हैं. चुनाव आयोग ने 283 पोलिंग बूथ बनाए थे. 2019 के लोकसभा चुनाव में महुआ सीट पर 57.73 प्रतिशत वोट पड़े थे, जबकि 2015 के विधानसभा चुनाव में मत प्रतिशत 58.24 रहा था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज