लाइव टीवी

RTI में खुलासा: बिहार में नहीं है कोई विभाग, जहां कोई कर सके अपना शरीर दान
Vaishali News in Hindi

ETV Bihar/Jharkhand
Updated: January 7, 2018, 8:00 PM IST
RTI में खुलासा: बिहार में नहीं है कोई विभाग, जहां कोई कर सके अपना शरीर दान
अपना शरीर दान करने वाले राम इकबाल पंडित (Photo: ETV/NEWS18)

बिहार में मेडिकल साइंस को सशक्त बनाने की दावा करने वाली नीतीश सरकार में अपनी इच्छा से मरणोपरांत शरीर दान करने की अबतक कोई सुविधा उपलब्ध नहीं है. इस बात का खुलासा सूचना के अधिकार के तहत हुआ.

  • Share this:
बिहार में मेडिकल साइंस को सशक्त बनाने की दावा करने वाली नीतीश सरकार में अपनी इच्छा से मरणोपरांत शरीर दान करने की अबतक कोई सुविधा उपलब्ध नहीं है. इस बात का खुलासा सूचना के अधिकार के तहत हुआ.

वैशाली के महुआ में मधौल के रहने वाले राम इकबाल पंडित को अपना शरीर दान करने के लिए कड़ी मशक्कत करना पड़ी. महीनों खाक छानने के बाद राम इकबाल पंडित ने राज्य सरकार के स्वास्थ्य विभाग में एक आरटीआई डाली. आरटीआई में राम इकबाल को पता चला कि बिहार में ऐसा कोई विभाग नहीं है जिसके माध्यम से कोई अपना शरीर दान कर सके. इस बात की जानकारी होने पर राम इकबाल पंडित ने दिल्ली जाकर मानव संरचना विभाग में आना शरीर दान कर दिया.

हाजीपुर में ऐतिहासिक कोनहारा पर विश्कर्मा मंदिर में पुजारी के तौर पर अपनी जीवन समर्पित कर चुके राम इकबाल पंडित ने बताया कि उन्होंने बिहार के सभी छोटे और बड़े अस्पतालों की खाक छानी. लेकिन कहीं से कुछ भी पता नहीं चला. फिर थक हार कर उन्होंने दिल्ली में अपना शरीर दान कर दिया.

उन्होंने कहा कि समाज सेवा को ध्यान में रखते हुए अपना शरीर दान किया है. ताकि आने वाले समय मे मेडिकल स्टूडेंट को रिसर्च में काम आ सके. उन्होंने कहा कि अगर सरकार शरीर दान करने की व्यवस्था कराए और लोगों के बीच इसकी जागरुकता फैलाए तो आने वाली पीढ़ी को इसका काफी लाभ मिलेगा.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए वैशाली से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 7, 2018, 8:00 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर