Assembly Banner 2021

रथ पर सवार हुए तेजप्रताप यादव, वैशाली से शुरू हुई रथ यात्रा

तेजप्रताप यादव का कहना है कि उनका यह रथ सूबे में धर्मनिरपेक्षता का संदेश देगा.

  • Share this:
आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव के अंदाज की चर्चा चारों ओर हो रही है. कभी वो दरी पर बैठकर जनता दरबार लगाते हैं तो कभी महिला की समस्या के समाधान के लिए थाने में जाकर धरने पर बैठ जाते हैं. इसी क्रम में, एक बार फिर वैशाली के महनार में उनका अनोखा अंदाज देखने को मिला. लालू के रंग में नजर आ रहे तेजप्रताप रथ पर सवार हुए. उनका काफिला रथ के पीछे चलता हुआ नजर आया.

दरअसल तेजप्रताप यादव महनार के इशाकपुर में एक निजी स्कूल के उद्घाटन समारोह में भाग लेने पहुंचे थे. इस दौरान कार्यकर्ताओं ने उनका भव्य स्वागत किया और इसी स्वागत के तहत कार्यकर्ताओं ने रथ का इंतजाम किया था.

बताते चलें कि इस बार तेजप्रताप ने बीजेपी के रथ के मुकाबले रविवार को धर्मनिरपेक्ष सेवक संघ (डीएसएस) का रथ निकाला है. बिहार के महनार से इस रथयात्रा की शुरुआत हुई है जो पूरे बिहार में जानेवाली है. तेजप्रताप यादव का कहना है कि उनका यह रथ सूबे में धर्मनिरपेक्षता का संदेश देगा. ये बीजेपी की तरह हिन्दू-मुसलमानों को बांटने वाला रथ नहीं है. बताते चलें कि धर्मनिरपेक्ष सेवक संघ एक युवा संगठन है, जिसकी स्थापना पिछले साल की गई थी.



तेजप्रताप से जब न्यूज18 ने पूछा कि एक समय आपके पिता लालू प्रसाद ने आडवाणी जी के रथ को रोका था फिर आपको ऐसे रथ को निकालने की जरूरत क्यों पड़ी तो उनका जवाब था कि वो रथ हिंदूवादी था. अगर बीजेपी धर्मनिरपेक्षता का रथ निकाले तो स्वागत है. लेकिन देश को बांटने वाले रथ को हम फिर रोकेंगे. (इनपुट- अमित कुमार सिंह/राजीव मोहन)
ये भी पढ़ें-

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केस: इन 'गुनहगारों' ने बच्चियों की जिंदगी नर्क बना दी
बिहार STF ने 2018 में पकड़े 75 नक्सली, 300 अपराधी भी चढ़े हत्थे

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज