Home /News /bihar /

35 करोड़ रुपए गोलमाल कर फरार हुआ प्रिंसिपल, नन ग्रेजुएट बीवी को भी लेक्चरर बना दी सैलरी

35 करोड़ रुपए गोलमाल कर फरार हुआ प्रिंसिपल, नन ग्रेजुएट बीवी को भी लेक्चरर बना दी सैलरी

कॉलेज जहां छापेमारी की गई

कॉलेज जहां छापेमारी की गई

जयप्रकाश यूनिवर्सिटी से सम्बद्ध गोपालगंज,छपरा और सिवान के कॉलेजों में अनुदान के नाम पर बड़े पैमाने पर राशि का बंदरबाट किया गया था. अकेले गोपालगंज के एसडीएम कॉलेज में निगरानी की जांच के बाद करीब 35 करोड़ रूपये की राशि का घोटाला सामने आया था.

अधिक पढ़ें ...
छपरा के जयप्रकाश विश्वविद्यालय के सम्बद्ध कॉलेजों में हुए अनुदान राशि घोटाला मामले में निगरानी कोर्ट ने गोपालगंज के एसएमडी कॉलेज के प्राचार्य की गिरफ़्तारी का वारंट जारी कर दिया है.

वारंट जारी होते ही कॉलेज के प्राचार्य के फरार हो गए हैं. कुचायकोट के जलालपुर स्थित एसएमडी कॉलेज में पठन-पाठन ठप्प हो गया है. गौरतलब है की जयप्रकाश यूनिवर्सिटी से सम्बद्ध गोपालगंज,छपरा और सिवान के कॉलेजों में अनुदान के नाम पर बड़े पैमाने पर राशि का बंदरबाट किया गया था. अकेले गोपालगंज के एसडीएम कॉलेज में निगरानी की जांच के बाद करीब 35 करोड़ रूपये की राशि का घोटाला सामने आया था.

निगरानी की जांच रिपोर्ट के मुताबिक इस कॉलेज में वैसे लोगों के नाम से भी अनुदान की राशि निकली गयी थी जो मृत थे. इसी तरह इस कॉलेज के प्राचार्य रामदुलार दास की पत्नी निभा तिवारी के नाम पर वर्ष 2007 से लेक्चरर के पद के नाम पर अनुदान की लाखों रूपये की राशि निकाली गयी थी जबकि निभा तिवारी ने वर्ष 2011 में ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल की है.

एक सप्ताह पूर्व निगरानी के मुजफ्फरपुर के डीएसपी, गोपालगंज के एसडीपीओ और कुचायकोट की पुलिस के नेतृत्व में एसएमडी कॉलेज के प्राचार्य के आवास पर देर रात छापामारी की गयी लेकिन आरोपी प्राचार्य की गिरफ्तारी नहीं हो सकी.

गिरफ़्तारी नहीं होने के बाद निगरानी कोर्ट ने आरोपी प्राचार्य रामदुलार दास के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया प्राचार्य के फरार होने के बाद से कॉलेज के कर्मियों में हडकंप है. कर्मियों के मुताबिक छापेमारी के बाद कॉलेज के प्राचार्य कहा फरार है किसी को कोई नहीं पता है.

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर