Valmikinagar Seat: टाइगर रिजर्व पर 2015 में निर्दलीय ने किया था 'कब्जा', इस चुनाव में कौन होगा 'टाइगर'

पश्चिम चंपारण की वाल्मिकीनगर विधानसभा सीट से पिछली बार निर्दलीय प्रत्याशी ने हासिल की थी जीत.
पश्चिम चंपारण की वाल्मिकीनगर विधानसभा सीट से पिछली बार निर्दलीय प्रत्याशी ने हासिल की थी जीत.

Valmikinagar Assembly Seat: वर्ष 2015 में जेडीयू से वाल्मिकीनगर विधानसभा सीट छीनकर निर्दलीय प्रत्याशी रिंकू सिंह बने थे विधायक. मगर इस बार वे जेडीयू में हैं, ऐसे में इस क्षेत्र के चुनाव (Bihar Assembly Election) पर सबकी नजरें टिकी हैं.

  • News18 Bihar
  • Last Updated: September 20, 2020, 12:54 PM IST
  • Share this:
वाल्मिकीनगर. बिहार के पश्चिमी चंपारण जिले में स्थित वाल्मिकीनगर विधानसभा क्षेत्र (Valmikinagar Assembly Seat) अपने टाइगर रिजर्व के लिए मशहूर है. बिहार में विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election) की सरगर्मियों के बीच इस विधानसभा क्षेत्र में भी सियासी हलचल बढ़ गई है. 2015 में महागठबंधन और राजग (Mahagathbandhan and NDA) की चुनावी जंग के बीच यहां से एक निर्दलीय उम्मीदवार ने अपनी चुनावी जीत से सबको चौंका दिया था. निर्दलीय प्रत्याशी धीरेंद्र प्रताप सिंह उर्फ रिंकू सिंह ने यहां से कांग्रेस प्रत्याशी इरशाद हुसैन को जबर्दस्त शिकस्त दी थी. लेकिन 2020 का विधानसभा चुनाव कोरोनाकाल के बीच हो रहा है. ऐसे में सियासी ऊंट किस करवट बैठेगा, इसको लेकर चर्चाओं का दौर शुरू हो गया है.

निर्दलीय जीते, जेडीयू में हुए शामिल
2008 में किए गए परिसीमन के बाद अस्तित्व में आए वाल्मिकीनगर विधानसभा सीट पर सबसे पहले 2010 में चुनाव हुए थे. सत्ताधारी जेडीयू ने सबसे पहले इस विधानसभा क्षेत्र से अपना खाता खोला था. लेकिन 5 साल बाद हुए चुनावों में जब सियासी समीकरण बदले, तो वाल्मिकीनगर की जनता ने किसी भी पार्टी के ऊपर अपना भरोसा नहीं जताया. बल्कि निर्दलीय प्रत्याशी रिंकू सिंह को भारी मतों से जीत दिलाकर अपना विधायक चुना. रिंकू सिंह ने कांग्रेस उम्मीदवार इरशाद हुसैन को 30 हजार से अधिक वोटों से शिकस्त दी थी. हालांकि आज की तारीख में विधायक रिंकू सिंह जेडीयू के नेता हो चुके हैं. वहीं, 2015 के मुकाबले 2020 की चुनावी परिस्थितियां और राज्य के राजनीतिक हालात भी बदले हुए हैं. ऐसे में इस बार वाल्मिकीनगर सीट पर महागठबंधन बनाम NDA का मुकाबला तय है. यह देखना दिलचस्प होगा कि निर्दलीय पर भरोसा जताने वाली इस क्षेत्र की जनता, 2020 के चुनाव में किस गठबंधन के हिस्से में जीत का सेहरा बांधती है.

लोकसभा का उपचुनाव भी है
वाल्मिकीनगर विधानसभा सीट के चुनाव के बारे में एक और बात गौर करने वाली यह है कि इस सीट पर विधानसभा के साथ-साथ लोकसभा सीट का उपचुनाव भी होना है. ऐसे में राजनीतिक दलों की रस्साकशी चरम पर है. वहीं, इस विधानसभा के आसपास की 5 सीटें पहले से ही बीजेपी के पास हैं. पिछले कुछ महीनों के दौरान पप्पू यादव की पार्टी जाप (लो) ने भी इस क्षेत्र में अपनी दखल बढ़ानी शुरू कर दी है. वहीं, पिछली बार की उपविजेता कांग्रेस पार्टी भी अपनी तरफ से कोई कोर-कसर नहीं छोड़ना चाहती. ऐसे में वाल्मिकीनगर टाइगर रिजर्व यानी BTR के लिए मशहूर इस इलाके में होने वाली विधानसभा चुनाव की जंग पर सभी की नजरें टिकी हुई हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज