• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • नेपाल में हो रही भारी बारिश ने बढ़ाई बिहार की चिंता, कई इलाकों में घुसा बाढ़ का पानी

नेपाल में हो रही भारी बारिश ने बढ़ाई बिहार की चिंता, कई इलाकों में घुसा बाढ़ का पानी

नेपाल में हो रही लगातार बारिश के कारण सुरक्षित स्थान की ओर जाने का प्रबंध करते बिहार के लोग

नेपाल में हो रही लगातार बारिश के कारण सुरक्षित स्थान की ओर जाने का प्रबंध करते बिहार के लोग

जल संसाधन विभाग के सहायक अभियंता आशीष कुमार ने बताया कि सुबह दस बजे बाराज से एक लाख अनठावन हजार से अधिक क्यूसेक पानी छोड़ा गया है जबकि नेपाल के पोखरा मे पिछले 24 घंटे मे 74 मिलीमीटर व भैरवा मे 68.3 मिलीमीटर बारिश हुई है जिसके कारण गंडक का जलस्तर बढ रहा है

  • Share this:
बेतिया. नेपाल में हो रही भारी बारिश (Heavy Rain In Bihar) ने बिहार की चिंता बढ़ा दी है. बारिश के कारण गंडक नदी (Gandak River) का जलस्तर लगातार बढ रहा है. हर 24 घंटे मे बाराज से पानी छोड़ने की मात्रा दोगुनी हो जा रही है. नेपाल के जल अधिग्रहण क्षेत्र में भारी बारिश होने के कारण गंडक उफान मारने लगी है. जल संसाधन विभाग के सहायक अभियंता आशीष कुमार ने बताया कि सुबह दस बजे बाराज से एक लाख अनठावन हजार से अधिक क्यूसेक पानी छोड़ा गया है जबकि नेपाल के पोखरा मे पिछले 24 घंटे मे  74 मिलीमीटर व भैरवा मे 68.3 मिलीमीटर बारिश हुई है जिसके कारण गंडक का जलस्तर बढ़ रहा है, इससे दियारे के नीचले क्षेत्रों मे पानी का फैलाव देख लोगों का पलायन तेज हो गया है.

कई इलाकों में घुसा तीन फीट पानी

दियारे इलाके के अरूण ने बताया कि दियारे का जो भी छोटा मोटा निकासी का रास्ता था उस पर तीन फुट पानी भर गया है. कोईरपट्टी घाट पर चलने वाली नाव बंद होने से लोग सिंगही घाट से होकर आ जा रहे है. गंडक का रूख बदलते देख बांध के बाहर रहने वाले दियारे के डेढ हजार आबादी पर बाढ़ का खतरा मंडराने लगा है. दो लाख क्यूसेक से ऊपर पानी छोड़ने की मात्रा हुई तो दियारे मे संकट बढ़ सकता है. लोग अब छोटे-बड़े नावों से लोग सुरक्षित स्थानों की तलाश मे पलायन को मजबूर हो रहे हैं, हालांकि सीओ अनिल कुमार ने बताया कि 5 सरकारी नावों व 17 प्राईवेट नावों को रखा गया है. जब बाढ़ की स्थिति होगी तो उसका उपयोग करवाया जाएगा.

अब तीन माह बांधों पर कटेगी रात

अब इन प्रभावित क्षेत्रों के अधिकांश लोगों की रातें बांधो पर ही कटेगी क्योंकि दियारे के नीचले क्षेत्रों मे पानी का फैलाव शुरू हो गया है जिसके चलते इन टोलों के लोग बांधो पर ही आशियाना लगाकर रहेंगे. इलाके के रूदल बीन , युगलाल भर ने बताया कि अब हमनी के बांध पर ही जिंदगी तीन माह कटी. सरकार त बदल गईल, व्यवस्था भी बदल गईल मगर हमनी के स्थिति जस के तस बा.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज