लाइव टीवी

वाल्मीकि टाइगर रिजर्व में लाठी के सहारे होती है बाघों की सुरक्षा

ETV Bihar/Jharkhand
Updated: August 1, 2017, 9:52 AM IST

देश में बाघों के संरक्षण को लेकर अ‌न्तराष्ट्रीय बाघ दिवस मनाया जा रहा है वहीं बाघों की संख्या को बढ़ाने की मुहिम के बीच बिहार का अनमोल धरोहर वाल्मीकि टाइगर रिजर्व में जंगल के राजा ही संकट में है.

  • Share this:
देश में बाघों के संरक्षण को लेकर अ‌न्तराष्ट्रीय बाघ दिवस मनाया जा रहा है वहीं बाघों की संख्या को बढ़ाने की मुहिम के बीच बिहार का अनमोल धरोहर वाल्मीकि टाइगर रिजर्व में जंगल के राजा ही संकट में है. हालात यह है कि अब बिहार के इकलौते बाघों के आशियाना में बाघ ही सुरक्षित नहीं है.

नेपाल और युपी की सीमा पर लगातार हो रहे बाघों के शिकार के बीच लाठी के सहारे बाघों की सुरक्षा होती है.हालात यह है कि वन विभाग के अधिकारी और कर्मी जान जोखिम में डालकर ड्युटी करने को मजबुर हैं. 890 वर्गकिलोमीटर में फैले जंगल में अबतक सशस्त्र बलों की तैनाती की योजना फाइलों से आगे नहीं बढ़ी है.

अन्तराष्ट्रीय शिकारियों व तस्करों की कारगुजारियों से निपटने में वन विभाग लाचार है. वाल्मीकि रिजर्व के 95 फीसदी पद रिक्त है जिसके अभाव में जंगल के जानवर और जंगल दोनों सुरक्षित नहीं है.

वनकर्मियों और अधिकारियों की कमी से जुझ रहे बाघों के इस आशियाना में अन्तराष्ट्रीय तस्करों से निपटने के लिए वनकर्मी निहत्थे लाठियों के सहारे बाघों की सुरक्षा में लगे हैं. वाल्मीकि टाईगर रिजर्व में करोड़ों रुपए खर्च कर बाघों की संख्या को बढ़ाने की मुहिम चलायी जा रही है जहां सुरक्षा भगवान भरोसे है.

तस्कर जंगल में महिनों भ्रमण कर बाघों के पगमार्क देखते हैं फिर बाघों को भोजन के एवज में जानवरों में जहर डालकर मौत की नींद सुला देते हैं. बाघों के अलावा अन्य जानवर और वन संपदा पर भी तस्करों की बुरी नजर है. हथियारों से लैश अपराधियों से वन विभाग लाठी से ही निपट सकता है. नतीजा यह है कि गश्ती पर मुठभेड़ के दौरान कई मौकों पर वनकर्मियों को पीछे हटने पड़ता है.

वैसे तो वाल्मीकि टाईगर रिजर्व में सशस्त्र टाईगर फोर्स के गठन का प्रस्ताव है. मगर कब होगा यह गठन किसी को पता नहीं है. आखिर कबतक असहाय वनकर्मी निहत्थे हथियारों से लैश तस्करों और शिकारियों का सामना करते रहेंगे. आखिर क्यों सरकार बिहार के इकलौते अभ्यारण्य की सुरक्षा को लेकर कदम नहीं उठा रही है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पश्चिमी चंपारण से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 1, 2017, 9:52 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर