रिहायशी इलाके में घुसे तेंदुए ने 6 मवेशियों को बनाया निवाला, कड़ी मशक्कत के बाद पाया गया काबू
West-Champaran News in Hindi

रिहायशी इलाके में घुसे तेंदुए ने 6 मवेशियों को बनाया निवाला, कड़ी मशक्कत के बाद पाया गया काबू
वन विभाग की गिरफ्त में तेंदुआ

बेतिया में तेंदुए के आतंक से सहमे ग्रामीणों ने राहत की सांस ली जब वन विभाग ने उदयपुर जंगल से तेंदुए को कड़ी मशक्कत के बाद रेस्क्यू कर लिया

  • Share this:
बेतिया. बिहार के बेतिया में कड़ी मशक्कत के बाद एक तेंदुए (Leopard) पर काबू पाया जा सका. जिला मुख्यालय से महज सात किलोमीटर दूर स्थित विटीआर (Valmiki Tiger Reserve) के उदयपुर जंगल में एक तेंदुआ भटक कर आ गया था. तेंदुआ आसपास के आधा दर्जन गांव के लोगों के लिए दहशत का पर्याय बन गया था. इस दौरान तेंदुए ने आधा दर्जन से अधिक मवेशियों को अपना शिकार बनाया था. दरअसल वाल्मीकि टाइगर रिजर्व के उदयपुर जंगल में एक तेंदुआ पिछले कुछ दिनो से डेरा जमाए हुए था आसपास के पतरखा सहित आधा दर्जन गांव के लोग काफी डरे सहमे हुए थे.

लॉकडाउन में भटक गया था रास्ता

पतरखा गांव में तेंदुए ने आधा दर्जन से अधिक मवेशियो को अपना शिकार बना लिया था और लोग भी अपने जान को लेकर भयभीत थे. जिसके बाद वन विभाग के पदाधिकारी सक्रिय हुए और उदयपुर जंगल में पिंजड़ा लगाया गया और तेंदुए को ट्रैप कर लिया गया है. तेंदुए को वाल्मीकि व्याघ्र परियोजना के गोवर्धना रेंज में ले जाकर वन विभाग की टीम छोड़ देगी. कड़ी मशक्कत के बाद तेंदुए को रेस्क्यू करने के बाद डीएफओ संजीव रंजन ने बताया कि लॉकडाउन के कारण तेंदुआ यहां आ गया था जिसे सकुशल रेस्क्यू कर लिया गया है. उन्होने बताया कि ग्रामीणो द्वारा एक और तेंदुआ होने की बात कही गई है जिसको लेकर नजर रखी जा रही है.



वाल्मीकि टाइगर रिजर्व में छोड़ने की तैयारी
तेंदुआ के पकड़े जाने के बाद वाल्मीकि व्याघ्र परियोजना के प्रमंडल-1 के डीएफओ सहित वाल्मीकि टाईगर रिजर्व के वन संरक्षक सह क्षेत्र निदेशक हेमकांत राय भी पहुंचे थे जिनकी देखरेख में तेंदुए को सकुशल वाल्मीकि व्याघ्र परियोजना के जंगल में छोड़ने के लिए ले जाया गया है. ग्रामीणों की समस्या को मीडिया द्वारा दिखाए जाने के बाद 48 घन्टे के अंदर वन विभाग ने कार्रवाई शुरू की और तेंदुए का रेस्क्यू कर लिया जिससे लोगों ने राहत की सांस ली है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज