लाइव टीवी

वाल्मिकी टाइगर रिजर्व में घुसा बाढ़ का पानी, लोगों की तत्परात से बची आठ हिरण की जान

ETV Bihar/Jharkhand
Updated: August 16, 2017, 5:09 PM IST
वाल्मिकी टाइगर रिजर्व में घुसा बाढ़ का पानी, लोगों की तत्परात से बची आठ हिरण की जान
बाढ़ के पानी में बह कर आया हिरण

सभी हिरण वाल्मीकिनगर रिजर्व टाईगर प्रोजेक्ट एरिया से बाढ़ के पानी के साथ बह कर आये हैं. ग्रामीणों ने पांचो हिरण को वन विभाग को सौंप दिया है. गंडक नदी में आये उफान में बह कर आये हिरणों को संग्रामपुर और अरेराज प्रखंड के विभिन्न क्षेत्रों में लोगों ने बचाया.

  • Share this:
बिहार में बाढ़ के कहर से आम आदमी के साथ-साथ जानवरों की जान भी सांसत में अटकी है. बाढ़ से प्रभावित पश्चिमी चंपारण के इलाकों में पशुओं पर बाढ़ की खासी मार पड़ रही है.

गंडक नदी में आयी बाढ़ में बेजुबान लगातार बह रहे हैं. इलाके के लोग लगातार इन बेजुबानों को बचाने का प्रयास कर रहे हैं. अब तक लोगों ने बाढ़ के पानी में बह कर आये पांच हिरणों की जान को बचाया है.

ऐसी आशंका जाहिर की जा रही है कि ये सभी हिरण वाल्मीकिनगर रिजर्व टाईगर प्रोजेक्ट एरिया से बाढ़ के पानी के साथ बह कर आये हैं. ग्रामीणों ने पांचो हिरण को वन विभाग को सौंप दिया है. गंडक नदी में आये उफान में बह कर आये हिरणों को संग्रामपुर और अरेराज प्रखंड के विभिन्न क्षेत्रों में लोगों ने बचाया.

दो हिरण को मंगलापुर के लोगों ने बचाया तो भवानीपुर और इजरा के लोगों ने एक-एक हिरण को बचाया. इसी प्रकार नदी में बहकर आ रहे दो हिरण को अरेराज प्रखंड के सरेया में लोगो ने पानी से छान कर निकाला.

वन विभाग के अधिकारियों ने बताया कि सभी हिरण बाढ़ में बह कर आये हैं जिन्हें रेस्क्यू कर उदयपुर जंगल में फिर से छोड़ दिया जाएगा. वन विभाग के अनुसार जानवर काफी ज्यादा संख्या में वाल्मीकिनगर जंगल से बहकर आ रहे हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पश्चिमी चंपारण से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 16, 2017, 4:51 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर